असम-मिजोरम सीमा विवादः मंत्री पीयूष हजारिका स्थिति का जायजा लेने लैयलापुल रवाना

0
58
 असम-मिजोरम अंतरराज्यीय सीमा पर हुई गोलीबारी में छह पुलिसकर्मियों की मौत होने के बाद उत्पन्न स्थिति का जायजा लेने के लिए असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा के निर्देश पर मंत्री पीयूष हजारिका कछार जिला के लैयलापुल रवाना हो गए हैं।
असम-मिजोरम अंतरराज्यीय सीमा पर असम पुलिस पर कथित तौर पर मिजो उपद्रवियों द्वारा की गयी गोलीबारी में असम के छह पुलिस कर्मी की मौत हो गयी, जबकि 54 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। 45 पुलिस कर्मियों को सिलचर मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में भर्ती कराए जाने की जानकारी मिली है। उपद्रवियों के हमले में कछार जिलाधिकारी कीर्ति जाल्ली की कार क्षतिग्रस्त हो गयी, जबकि कछार जिला पुलिस अधीक्षक वैभव चंद्रकांता निंबालकर और धोलाई थाना के थानाध्यक्ष सहाबुद्दीन लस्कर भी गोली लगने से घायल हो गये। दोनों को सिलचर मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
गोलीबारी में शहीद पुलिस कर्मियों में पुलिस अधीक्षक के बॉडीगार्ड लिटन शुक्लबैद्य, समसूद जमान, स्वपन कुमार राय, मजरूल हक, समुज्ज्वल बरभुइंया व अन्य एक जवान शामिल हैं। जबकि, एक स्थानीय व्यक्ति के भी मरने की बात सामने आ रही है।
अंतरराज्यीय सीमाई इलाके में स्थिति बेहद तनावपूर्ण बनी हुई है। देर शाम तक इलाके में रुक-रुककर गोली की आवाजें सुनाई दे रही थी जिसके चलते इलाके में भारी संख्या में अतिरिक्त पुलिस बल को तैनात किया गया है।
ज्ञात हो कि मिजोरम से लगने वाली असम की कछार, करीमगंज और हैलाकांदी जिलों में भी पिछले डेढ़ वर्ष से तनाव कायम है। केंद्र के हस्तक्षेप के बाद मिजोरम की आर्थिक नाकेबंदी को समाप्त किया गया था। आज की घटना के बाद दोनों राज्यों के बीच स्थिति बेहद गंभीर हो गयी है। आने वाले दिनों में असम से होकर मिजोरम जाने वाले वाहनों को स्थानीय लोगों द्वारा फिर से एक बार रोके जाने की संभावना उत्पन्न हो गयी है। हालांकि, मिजोरम के अंदर क्या हालात हैं, इस बारे में कुछ भी पता नहीं चल सका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here