असम में 6.7 का बड़ा भूकंप, भूकंप से काफी तबाही, भूकंप के दौरान 50 वर्षीय महिला की मौत, कई सेकेंड तक महसूस किये गए झटकों की वजह से लोगों में फैली दहशत 

असम में ट्रेनों की आवाजाही पर भी असर, असम में भूकंप के दौरान कई बिल्डिंगों में आई दरारें

0
493
असम में ट्रेनों की आवाजाही पर भी असर, असम में भूकंप के दौरान कई बिल्डिंगों में आई दरारें
असम में 6.7 का बड़ा भूकंप, भूकंप से काफी तबाही, एक व्यक्ति घायल, कई सेकेंड तक महसूस किये गए झटकों की वजह से लोगों में फैली दहशत

गुवाहाटी, 28 अप्रैल (हि.स.) असम समेत पूरे पूर्वोत्तर में बुधवार की सुबह आए भूकंप के बाद देर शाम गुवाहाटी के जोराबाट, सोनापुर और उसके आसपास के इलाकों में तूफान और भारी बरसात से इलाके में काफी नुकसान हुआ है।

भारी बारिश और तूफान की वजह से कई घरों को काफी नुकसान हुआ है। तूफान के दौरान जगह-जगह पेड़ गिरने की वजह से बिजली व्यवस्था पूरी तरह ठप हो गई है। हालांकि, बरसात और तूफान के दौरान खबर लिखे जाने तक किसी के हताहत होने की खबर सामने नहीं आई है।

असम में बुधवार की तड़के आए 6.4 तीव्रता के भूकंप के बाद आफ्टर शॉक लगभग अब तक 10 भूकंप के झटके महसूस किये गये हैं। समय बीतने के साथ-साथ भूकंप से हुए नुकसान की तस्वीर अब साफ होती नजर आ रही है। प्राकृतिक आपदा के चलते जहां आवासीय भवनों में दरारें आई  हैं वहीं ट्रेनों के परिचालन पर भी इसका असर दिखाई दिया है।

नवानगांव जिले के बेबेजिया में बुधवार को भूकंप के दौरान एक 50 वर्षीय महिला की मौत हो गई।

पुलिस ने बताया कि भूकंप के समय 50 वर्षीय लावण्य सैकिया गहरी नींद में थीं। अचानक घर से बाहर भागने के दौरान वह बिस्तर से जमीन पर गिर पड़ी, जिससे उसकी मौत हो गई।
पुलिस ने आशंका व्यक्त की है कि हार्ट फेल होने की वजह से महिला की मौत हुई है। पुलिस इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

पूर्वोत्तर सीमा रेलवे (पूसीरे) के जनसंपर्क विभाग ने बताया है कि भूकंप के बाद ट्रेनों के परिचालन को एहतियात के तौर पर लगभग दो घंटों के लिए रोक दिया गया। ट्रैक की जांच के बाद फिर से ट्रेनों का परिचालन बहाल कर दिया गया है।

भूकंप के चलते रंगिया और केंदुकोना रेलवे स्टेशन के बीच एक रेलवे पुल में मामूली दरार आने की सूचना मिली है। रेलवे के अभियंता मौके पर पहुंचकर हालात का जायला लेने का बाद नुकसान का आंकलन करने के बाद पुल से ट्रेनों को धीमी गति से निकालना शुरू कर दिया है।

सूत्रों ने बताया है कि भूकंप के तेज झटके के कारण रंगिया बंगालीकुची स्थित रेलवे पुल पर दरारें आई हैं। हाथीखोला रेलवे पुल संख्या 516 पर दरार पड़ गयी है। सूचना मिलते ही ट्रेनों की आवाजाही रोक दी गई। रंगिया जंक्शन और चांगसारी रेलवे स्टेशनों पर यात्री ट्रेनों में घंटों फंसे रहे। घटना का जायजा लेने के लिए रेलवे कर्मचारियों के साथ ही रेलवे के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। रंगिया रेलवे विभाग ने पुल के नीचे फटे हुए हिस्से की मरम्मत कर ट्रेनों की परिचालन शुरू कर दिया। इस घटना से ट्रेनों में लंबी दूरी के यात्री काफी देर तक अटके रहे।

भूकंप के दौरान डाउन लोकमान्य तिलक स्पेशल ट्रेन को गुवाहाटी में ही रोक दिया गया था। चांगसारी में डाउन कामरूप एक्सप्रेस को रोका गया था। नलबाड़ी में डाउन राजधानी एक्सप्रेस को रोका गया था जबकि खैराबरी में चार घंटे तक डेकारगांव इंटरसिटी विशेष ट्रेन को रोका गया था।

 उल्लेखनीय है कि सुबह 7 बजकर 51 मिनट से लेकर दोपहर बाद 3 बजकर 55 मिनट तक कुल 10 भूकंप महसूस किये गये।

 असम के शोणितपुर जिला के ढेकियाजुली में बुधवार की सुबह 7.51 बजे आए 6.4 तीव्रता के भूकंप के चलते राज्य के विभिन्न हिस्सों से नुकसान की सूचनाएं सामने आ रही हैं। पहले भूकंप के बाद आफ्टर शॉक अन्य छह भूकंप दर्ज किये गये हैं। इस तरह से राज्य में कुल सात भूकंप महसूस किये गये हैं।

राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में कुल सात भूकंप दर्ज किये गये हैं। पहला झटका सुबह 07 बजकर 51 मिनट 25 सेकेंड पर 6.4 तीव्रता का भूकंप शोणितपुर जिला में जमीन में 17 किमी नीचे स्थित था। दूसरा सुबह 8 बजकर 03 मिनट 01 सेकेंड पर 4.7 तीव्रता का भूकंप जमीन में 15 किमी नीचे था। तीसरा 8 बजकर 13 मिनट 21 सेकेंड पर 4 तीव्रता का भूकंप जमीन में 20 किमी नीचे था। चौथा 8 बजकर 25 मिनट 40 सेकेंड पर 3.6 तीव्रता का भूकंप जमीन में 26 किमी नीचे था। पांचवां 8 बजकर 44 मिनट 34 सेकेंड पर 3.6 तीव्रता का भूकंप जमीन में 25 किमी नीचे था। छठा 10 बजकर 5 मिनट 54 सेकेंड पर 3.2 तीव्रता का भूकंप जमीन में 27 किमी नीचे था जबकि सातवां भूकंप 10 बजकर 39 मिनट 12 सेकेंड पर 3.4 तीव्रता का भूकंप जमीन में 10 किमी नीचे स्थित था।

आपदा प्रबंधन विभाग ने कुछ जिलों के तथ्य जारी करते हुए बताया है कि दरंग जिला में भूकंप के चलते 78 वर्ष के एक बुजुर्ग के घायल होने के अलावा कोई बड़े हादसे की जानकारी सामने नहीं आई है। हालांकि घरों के नुकसान की खबरें धीरे-धीरे सामने आ रही हैं। नगांव जिला में एक बड़ी बिल्डिंग झुककर टेढ़ी हो गयी है। जिले में नव निर्मित सबसे बड़े लिंगकार शिव मंदिर में भी दरारें आई हैं। इस मंदिर का हाल ही में उद्घाटन हुआ था।

कामरूप (मेट्रो) जिला की कई बिल्डिंगों में दरारें आई हैं। इनमें सिग्नेचर अपार्टमेंट, लक्ष्मी अपार्टमेंट में दरारें आने के साथ ही तीन लोगों के घायल होने की सूचना मिली है। बाक्सा जिले में भी कुछ आवासीय भवनों में दरारें आई हैं। उदालगुड़ी जिला के बैरबकुंडा इलाके में खेती की जमीन से भी भूकंप के भारी दबाव के कारण पानी का प्रवाह आरंभ हो गया। अन्य जिलों से अभी तक नुकसान की सूचनाएं सामने नहीं आई है। प्रशासन नुकसान का आंकलन करने में जुटा हुआ है।

 असम में बुधवार की सुबह 7.51 मिनट पर आए भयावह भूकंप का असर असम समेत पूरे पूर्वोत्तर व पश्चिम बंगाल में भी देखा जा रहा है। भूकंप के बाद आई तस्वीरें तबाही की कहानी बयां कर रही है। गुवाहाटी के विभिन्न हिस्सों में नुकसान की खबरें सामने आई हैं।

असम में कुल पांच भूकंप महसूस किया गया है। पहला भूकंप 7 बजकर 51 मिनट 25 सेकेंड पर 6.4 तीव्रता का, दूसरा भूकंप 08 बजकर 13 मिनट 21 सेकेंड पर 4 तीव्रता का, तीसरा भूकंप 08 बजकर 25 मिनट 40 सेकेंड पर 3.6 तीव्रता का, चौथा भूकंप 08 बजकर 34 मिनट 14 सेकेंड पर 3.1 तीव्रता का औऱ पांचवां भूकंप 08 बजकर 44 मिनट 33 सेकेंड पर 3.6 तीव्रता का दर्ज हुआ है।

राजधानी गुवाहाटी के भेटापाड़ा में दीवार गिरने से एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसे गुवाहाटी मेडिकल कालेज अस्पताल (जीएमसीएच) में भर्ती कराया गया है। भूकंप के जोरदार झटका से काफी नुकसान हुआ है। भूकंप के बाद आई तस्वीरें तबाही की कहानी बयां कर रही है। गुवाहाटी के खानापाड़ा स्थित पांच सितारा होटल ताज विवांद में भी काफी नुकसान हुआ है। उलुबारी इलाके में स्थित सिग्नेचर नामक बिल्डिंग का वाटर टैंक फट गया, जिसके चलते पानी छत होते हुए कमरों में फैल गया। बिल्डिंग के आसपास दीवारों का मलवा आसपास में फैल गया है। इसी तरह गुवाहाटी के विभिन्न हिस्सों में भी नुकसान की खबरें सामने आई।

भूकंप का एपी सेंटर शोणितपुर जिला के तेजपुर में स्थित था जिसकी वजह से इलाके में काफी नुकसान हुआ है। मुख्य रूप से भूकंप आने के बाद जमीन के अंदर से काफी दबाव बढ़ा जिसके चलते कुछ क्षेत्रों में जमीन में दरार आ गयी, जबकि कई गांवों में खेतों में जमीन से पानी निकल रहा है। आपदा प्रबंधन विभाग नुकसान का आंकलन करने में जुटा हुआ है। दूर-दराज के इलाकों में कितनी तबाही हुई है, इसकी जानकारी धीरे-धीरे सामने आ रही है। असम राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के साथ ही अन्य एजेंसियां भी भूकंप के बाद राहत व बचाव कार्य में जुटी हुई है।

 असम के गुवाहाटी समेत पूर्वोत्तर में भूकंप का बड़ा झटका महसूस किया गया है।बुधवार को तड़के 7.51 मिनट पर 6.7 तीव्रता के बड़े भूकंप की वजह से पूरे राज्य में दहशत फैल गयी है। हालांकि अभी तक किसी भी तरह के नुकसान का पता नहीं चल सका है लेकिन कई सेकेंड तक महसूस किये गए झटकों की वजह से लोग अपने घरों से बाहर निकल आए।

भूकंप के इस बड़े झटके के बाद दो और भूकंप महसूस किये गये हैं। भूकंप का केंद्र शोणितपुर जिला के तेजपुर में बताया गया है। माना जा रहा है कि 6.7 तीव्रता वाले भूकंप के चलते निश्चित तौर पर नुकसान हुआ होगा लेकिन अभी तक जानकारी नहीं मिल सकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here