फॉलो करें

आरएसएस माजुली इकाई द्वारा लुइत सुबनसिरी समावेश संपन्न 

22 Views
सरसंघचालक मोहन भागवत ने किया संबोधित
प्रेरणा प्रतिवेदन गुवाहाटी, 29 दिसंबर: “हमें अपने राष्ट्र को भारत के युगानुकूल स्वत्व के आधार पर विकसित करना है,” राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने आज माजुली में गणवेशधारी स्वयंसेवकों के भव्य “लुइत सुबनसिरी समावेश” में यह बात कही। उन्होंने श्रोताओं से प्रश्न किया कि क्या भारत अपनी कड़ी मेहनत से प्राप्त स्वतंत्रता प्राप्त करने के बावजूद उसमें “स्व” या स्वत्व को बरकरार रखने में सक्षम था? पुनश्च, सरसंघचालक जी ने बल दिया कि देशभक्ति और आपस में एकता के बिना, लंबे समय तक चलने वाली स्वतंत्रता खतरे में पड़ जाएगी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के गठन के पीछे मुख्य कारण हमारे समाज को राष्ट्रभक्त, संगठित और ओजस्वी स्वाभिमान से परिपूर्ण बनाने की दिशा में जागृत करना है। हालाँकि, डॉ. भागवत ने इस बात पर जोर दिया कि हमारा “स्व” हमारे समय-परीक्षित पारंपरिक ज्ञान और दुनिया भर के सर्वोत्तम ज्ञान द्वारा समर्थित पीढ़ीगत आवश्यकताओं पर आधारित होना चाहिए। “आ नो भद्रः क्रतवो यन्तु विश्वतोऽदब्धासो अपरितसुद्भिदः” अर्थात् हमें अपने सहित पूरे विश्व से सर्वोत्तम ज्ञान प्राप्त करना चाहिए। उन्होंने साथ ही चेतावनी दी कि विगत शताब्दियों में दुनिया को भौतिकवादी आकांक्षाओं पर आधारित दोषपूर्ण मानकों के कारण विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ा है। हमारा भारतीय मॉडल समाज को सभी पहलुओं में आत्मनिर्भर बनाने का अधिकार देता है। उन्होंने याद दिलाया कि प्राचीन भारत अपने भौगोलिक भूभाग के कारण हिंदूकुश पर्वत से अराकान तक बाहरी आक्रमणों से सुरक्षित था;इसलिए हमारे पूर्वजों को आध्यात्मिक, कलात्मक और साथ ही भौतिक रूप से विकास के चरम तक पहुंचने के लिए पर्याप्त शांतिपूर्ण समय दिया गया था। रासायनिक उर्वरकों पर आधारित कृषि विकास की कोई आवश्यकता नहीं थी जिसका दुष्प्रभाव अंततः लोगों पर पड़ता है। सरसंघचालक जी ने महापुरुष शंकरदेव और लचित बोरफुकन आदि जैसे हमारे गौरवशाली प्रतीकों द्वारा दिखाए गए महान मार्ग का अनुसरण करने की आवश्यकता पर बल दिया। यह एक सार्वभौमिक सत्य है कि नियमित अभ्यास के माध्यम से, महान गुण आदत बन जाते हैं।संघ शाखाओं की यही पद्धत्ति है।वैश्विक कल्याण के प्रति प्रतिबद्ध एक सशक्त राष्ट्र बनाने के लिए इस व्यक्तिगत अच्छी आदत को संगठित प्रयास में बदलने की आवश्यकता है। यह संगठित प्रयास एक बड़े परिवार की भाईचारे की भावना से जुड़ा होना चाहिए। महान भारतीय मूल्य हमें “दोनों हाथों से कमाना, लेकिन हजार हाथों से योगदान करना” सिखाता है। उपनिषद हमें हमारे व्यापक दृष्टिकोण के लिए “संयम” के साथ-साथ “ईसावस्याम इदम सर्वम” की सलाह देता है। भारत के बाहर के लोगों ने इन महान मूल्यों को हिंदुत्व के रूप में मान्यता दी। सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने बताया कि पृथ्वी पर अन्य समाज धर्मनिरपेक्षता की बात तो जोर-शोर से करते हैं परंतु भारतवर्ष सदियों से इस पर अमल करता आ रहा है। संघ समाज में कोई अलग समूह बनाकर नहीं बल्कि व्यक्तिगत स्वार्थी वृत्तियों को छोड़कर सभी को एक साथ लाकर पूरे समाज को संगठित करके विश्व कल्याण का साधन मात्र बनना चाहता है।
गणवेशधारी स्वयंसेवकों की शारीरिक प्रदर्शन एवं माजुली के स्थानीय दर्शकों की भागीदारी से यह समावेश संपन्न हुआ। पूज्य सरसंघचालक जी अपनी पहली दो दिवसीय माजुली यात्रा के समापन के बाद विचार-विमर्श के लिए डिब्रूगढ़ के लिए प्रस्थान कर गए।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल