कामरूप जिले में शिक्षा विभाग ने अनोखे तरीके से मनाया विश्व पर्यावरण दिवस

बच्चों ने पक्षियों को दिया चारा-पानी, आवारा पशुओं को खिलाया भोजन

0
208
बच्चों ने पक्षियों को दिया चारा-पानी, आवारा पशुओं को खिलाया भोजन

गुवाहाटी, 5 जून। विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य पर इस वर्ष की थीम इकोसिस्टम रिस्टोरेशन को ध्यान में रखते हुए राज्य के शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार कामरूप (मेट्रो) जिले में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। स्कूली बच्चों ने चित्रांकन के जरिए पृथ्वी को हरा-भरा बनाए रखने का संकल्प लेने के साथ ही आवारा पशुओं को भोजन कराकर और पक्षियों के लिए दाना-पानी की व्यवस्था कर मानवता का पाठ सीखा। इस मौके पर छात्र-छात्राओं ने अभिभावकों के साथ अपने घर पर पौधरोपण किया। शिक्षकों ने स्कूल प्रबंधन समिति के सदस्यों के सहयोग से कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए स्कूल परिसर में पौधे रोपे। घर में बेकार पड़ी वस्तुओं से कई आकर्षक वस्तुएं भी बच्चों ने बनाया। इसके साथ ही कक्षा तीसरी से बारहवीं तक के बच्चों के बीच पर्यावरण संरक्षण से जुड़ी एक आनलाइन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता भी आयोजित की गई, जिसके प्रतिभागियों को ई-सर्टिफिकेट प्रदान किए गए। बच्चों के बीच निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। विद्यार्थियों ने अपने चित्रों, निबंध और रद्दी वस्तुओं से तैयार सामानों की तस्वीर ह्वाट्सऐप के जरिए स्कूल के शिक्षकों को भेजी। कामरूप (मेट्रो) जिले के स्कूल निरीक्षक (आईएस) सह जिला प्राथमिक अधिकारी (डीईईओ) प्रसन्न बोरा के नेतृत्व में आयोजित इन कार्यक्रमों में विद्यार्थियों के साथ-साथ अभिभावकों ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया। कार्यक्रम के सफल आयोजन में गुवाहाटी शिक्षा खंड के स्कूल उपनिरीक्षक देबेन चंद्र लहकर, डिमोरिया शिक्षा प्रखंड की बीईईओ हनी चमुआ नाथ, डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम आफिसर (डीपीओ) रंग मिलन अहमद व तापसी शर्मा के अलावा सभी सीआरसीसी व शिक्षकों ने सक्रिय भूमिका निभाई। स्कूल निरीक्षक प्रसन्न बोरा ने कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग करने वाले सभी का आभार प्रकट किया। समग्र शिक्षा कामरूप (मेट्रो) की ओर से आज यहाँ जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में इस आशय की जानकारी दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here