बेरेंगा, शिलचर में हुए रविदास मां- बेटी की हत्या के खिलाफ शिलचर, हाइलाकांदी तथा गोलाघाट में दिया गया ज्ञापन, जांच की मांग

रविदास समाज उन्नयन संस्था सहित विभिन्न संगठनों की आंदोलन की चेतावनी

0
1400
बेरेंगा, शिलचर में हुए रविदास मां- बेटी की हत्या के खिलाफ शिलचर, हाइलाकांदी तथा गोलाघाट में दिया गया ज्ञापन जांच की मांग
असम हरिजन उन्नयन कमेटी, रविदास समाज उन्नयन संस्था शिलचर सहित विभिन्न दलित संगठनों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मांग किया है कि आधी रात को हुए इस जघन्य कृत्य की न्यायिक जांच हो एवं दोषियों को 7 दिन के अंदर पकड़ कर कठोर से कठोर सजा दी जाए। गरीब, पिड़ित राजु रविदास की पुरी चिकित्सा सरकारी खर्चे से करायी जाय एवं उसे उचित मुआवजा दिया जाए।
ज्ञापन प्रदान करने में संस्था के सभापति बृजलाल रविदास के नेतृत्व में मदन मोहन रविदास, सूर्यकांत सरकार, मनमोहन रविदास, शीतल रविदास तथा मीनाक्षी दास आदि शामिल थे। उन्होंने कहा कि यदि हमारी मांग नहीं मानी गईं तो हम लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने के लिए वाध्य होंगे। क्योंकि कुछ साल पहले ऐसे ही गंगापुर की गुलाबी रविदास नामक महिला की अस्मिता लुट हत्या कर दी गई थी, जिसके हत्यारे जमानत पर रिहा होकर समाज में दहशत फैला रहे हैं।
उन्होंने बताया कि ज्ञापन की प्रतिलिपि राज्यपाल, असम, जिला पुलिस अधीक्षक, शिलचर, ओ.एस.डी. मुख्यमंत्री, असम तथा चेयरमैन, राष्ट्रीय अनुसुचित जनजाति आयोग, ५वी मंजिल, लोक नायक भवन, नयी दिल्ली-110003 के संज्ञान एवं उचित कार्यवाही हेतु प्रेषित किया गया है।
इसी प्रकार श्यामसुंदर रविदास के नेतृत्व में हाइलाकादी में रविदास उन्नयन संस्था द्वारा तथा संजय रविदास और काजू रविदास के नेतृत्व में रविदास जी युवा छात्र परिषद गोलाघाट द्वारा संबंधित जिलाधिकारियों को ज्ञापन प्रदान करते हुए न्यायिक जांच और उचित मुआवजे की मांग की गई।
उल्लेखनीय है कि पिछले 14 अप्रैल 2021 दिन बुधवार को आधीरात में लगभग 12-1.00 वजे जब बेरेंगा पार्ट -2, शिलचर निवासी राजु रविदास के घर के सभी सदस्य गंभीर निद्रा में थे, तभी कुछ अज्ञात आताताइयों ने घर का दरवाजा तोड़ कर घर में घुसकर राजु रविदास की पत्नी दुलिया रविदास एवं बेटी अंजली रविदास के उपर एसीड फेककर आग लगा दिया। गांव के लोगों ने राजु रविदास, उसके पत्नी एवं बेटी को अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में राजु रविदास की पत्नी एवं बेटी की मौत हो गई। राजु रविदास का इलाज चल रहा है। लोगों का कहना है कि इस एसिड हमला एवं हत्या के पीछे भूमाफियाओं का हाथ हो सकता है जो राजु रविदास के जमीन हथियाना चाहते हैं।

गरीब, मजदूर राजू रविदास के घर में आधी रात को एसिड अटैक करके पत्नी और बेटी की हत्या

पिछले 14 अप्रैल 2021 दिन बुधवार को आधीरात में लगभग 12-1.00 वजे जब बेरेंगा पार्ट -2, शिलचर निवासी राजु रविदास के घर के सभी सदस्य गंभीर निद्रा में थे, तभी कुछ अज्ञात आताताइयों ने घर का दरवाजा तोड़ कर घर में घुसकर राजु रविदास की पत्नी दुलिया रविदास एवं बेटी अंजली रविदास के उपर एसीड फेककर आग लगा दिया। राजु रविदास को भी ज़िंदा जलाने की कोशिश की लेकिन शोर हंगामे के कारण उपद्रवी भाग गए। गांव के लोगों ने राजु रविदास, उसके पत्नी एवं बेटी को अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में ही राजु रविदास की पत्नी एवं बेटी की मौत हो गई। राजु रविदास की हालत नाज़ुक है।

लोगों का कहना है कि इस एसिड हमला एवं हत्या के पिछे भूमाफियाओं का हाथ हो सकता है जो राजु रविदास के जमीन हथियाना चाहते हैं। क्योंकि गरीब दलित राजु रविदास की किसी के साथ कोई रंजिश की जानकारी नहीं मिल रही है। बांग्ला नव वर्ष के समय आधी रात को हु इस बर्बर, अमानवीय कृत्य से शिलचर और आसपास के अंचल में भारी उत्तेजना है। आज श्मसान में राजू रविदास की बेटी और पत्नी की जलती चिताओं के सम्मुख रविदास समाज संस्था तथा बजरंग दल सहित कई हिंदीभाषी संगठनों ने अपराधियों के तत्काल गिरफ्तारी और पूरी मामले की त्वरित जांच करने की मांग की अन्यथा इसके खिलाती तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी दी।

रविदास समाज उन्नयन संस्था आज जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मांग करने जा रही है कि आधी रात को हुए इस जघन्य कृत्य की न्यायिक जांच हो एवं दोषियों को 7 दिन के अंदर पकड़ कर कठोर से कठोर सजा दी जाए। गरीब, पिड़ित राजु रविदास की पुरी चिकित्सा सरकारी खर्चे से करायी जाय एवं उसे उचित मुआवजा दिया जाए।

संस्था के वरिष्ठ अधिकारी बृजलाल रविदास का कहना है कि यदि हमारी मांग नहीं मानी गईं तो हम लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने के लिए वाध्य होंगे। क्योंकि कुछ साल पहले ऐसे ही गंगापुर की गुलाबी रविदास नामक महिला की अस्मिता लुट हत्या कर दी गई थी, जिसके हत्यारे जमानत पर रिहा होकर समाज में दहशत फैला रहे हैं।

उन्होंने बताया कि ज्ञापन की प्रतिलिपि राज्यपाल, असम, जिला पुलिस अधीक्षक, शिलचर, ओ.एस.डी. मुख्यमंत्री, असम तथा चेयरमैन, राष्ट्रीय अनुसुचित जनजाति आयोग, ५वी मंजिल, लोक नायक भवन, नयी दिल्ली-110003 के संज्ञान एवं उचित कार्यवाही हेतु प्रेषित की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here