चाय जनजाति समिति हाइलाकांदी तथा भोजपुरी परिषद केंद्रीय समिति ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया एक लाख रुपए

0
169
चाय जनजाति समिति हाइलाकांदी तथा भोजपुरी परिषद केंद्रीय समिति ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया एक लाख रुपए

चाय जनजाति समिति हाइलाकांदी तथा भोजपुरी परिषद केंद्रीय समिति ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया एक लाख रुपए

हाइलाकांदी 16 जून: सोमवार की शाम चार बजे बराक चाय जनजाति कल्याण समिति और भोजपुरी परिषद हाइलाकांदी के नेताओं ने असम के मुख्य मंत्री हिमंत बिस्वशर्मा से मुलाकात की और चाय जनजाति कल्याण समिति और भोजपुरी परिषद ने मुख्य मंत्री राहत कोष में एक लाख रुपए की राहत राशि जमा की।
चाय जनजाति कल्याण समिति के अध्यक्ष मनोज पांडेय ने मुख्यमंत्री से बात करते हुए बराक के चाय श्रमिकों की विभिन्न समस्यायों को उजागर किया ।
बराक और ब्रह्मपुत्र उपत्यका के चाय श्रमिकों के पारिश्रमिक में जो भेदभाव है उसे जल्द से जल्द समाप्त किया जाए। चाय श्रमिकों की दैनिक पारिश्रमिक को कम से कम 250 रुपए किया जाए ताकि वे बेहतर जिंदगी जी सके।
चाय बागानों की जो जमीन प्राइवेट लोगों द्वारा हड़पा जा रहा है, उसे जल्द से जल्द मुक्त करने का अभियान चलाया जाए । चाय बागानों की भूमि पट्टा के समस्या का निवारण जल्द हो।
चाय बागान के लोग अपनी छोटी सी आय की वजह से अपने बच्चो को शहरों में भेजकर अच्छी पढ़ाई उपलब्ध नहीं करा पाते। इसलिए चाय बागान के बच्चो को सरकारी नोकरी 40 प्रतिशत नंबर रखा जाए और 10 प्रतिशत आरक्षण जल्द से जल्द लागू किया जाए। असम दर्शन स्कीम में बराक से और  ज्यादा धार्मिक स्थान को जगह दिया जाय।
मिजोरम बॉर्डर समस्या का समाधान जल्द से जल्द हो। कुछ और मुद्दों के साथ गई थी, चाय जनजाति की टीम।
मुख्यमंत्री जी ने आश्वासन दिया है कोरोना ख़तम होते ही सारी समस्यायों पर ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने कहा करोना ख़त्म होने के पश्चात उनसे फिर मुलाकात करने के लिए ताकि समस्यायों को और अच्छी तरह से  समझ जा सके। उधर भोजपुरी परिषद के केंद्रीय सभापति कैलाश कुमार गुप्ता जी ने हिंदी और भोजपुरी भाषियों की हिंदी एम आई एल लेकर पढ़ने वाले और टेट पास करके बैठने वाले मुद्दे को जोरो से उठाया, जिसपर मुख्य मंत्री जी ने आशानुरूप प्रतिक्रिया दी।
चाय जनजाति कल्याण समिति और भोजपुरी परिषद ने मुख्य मंत्री राहत कोष में एक लाख रुपए की राहत राशि जमा की। मुख्यमंत्री से मुलाकात के प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे राजू रविदास, श्यामसुंदर रविदास, घनश्याम साहू, नंद लाल कोइरी, और अभिजीत सिंह जी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here