फॉलो करें

तिनसुकिया बना विरासती कचरे से मुक्त होने वाला पूर्वोत्तर का पहला जिला

40 Views
गुवाहाटी, 11 मार्च: तिनसुकिया जिला प्रशासन ने जिले के पांच नगर बोर्डों अर्थात तिनसुकिया, डूमडूमा, डिगबोई, मार्गेरिटा और मकुम नगर बोर्ड के साथ समन्वय में गत वर्ष मार्च 2023 के महीने में जिले को कचरा मुक्त बनाने की एक महत्वाकांक्षी पहल शुरू की थी। तिनसुकिया और मकुम नगर बोर्ड के पुराने कचरे के जैव-खनन के लिए ऑयल इंडिया लिमिटेड सीएसआर फंड में पूलिंग करके शुरू किया गया था। तब से 75,000 मीट्रिक टन (एमटी) कचरे का उपचार तिंगराई, तिनसुकिया में डंपसाइट पर किया गया है। तिनसुकिया दुलियाजान रोड इलाके में चारों ओर दुर्गंध और गंदी मक्खियों के भिनभिनाने के कारण लोग गुजर नहीं पा रहे हैं। इसके अतिरिक्त, डूमडूमा नगर बोर्ड में 18,000 मीट्रिक टन (एमटी) का उपचार किया गया है, जबकि डिगबोई और मार्गेरिटा में क्रमशः 25,000 और 30,000 मीट्रिक टन (एमटी) कचरे को जैव-खनन तकनीक का उपयोग करके संसाधित किया गया है, जिससे जिले में कुल 1.53 लाख मीट्रिक टन (एमटी) एक वर्ष की अवधि के भीतर कचरा हो गया है।। यह सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। एनजीटी द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप असम अपने हरित एजेंडे को पूरा कर रहा है। मैसर्स कॉल एंड फिक्स नामक एजेंसी ने सभी यूएलबी में इस परियोजना को निष्पादित करने का अहम भुमिका निभाई हैं।
 तिनसुकिया जिला आयुक्त स्वप्निल पॉल ने कहा है कि सभी स्थलों पर कचरे के उपचार से जिले के शहरी केंद्रों के पास 80 बीघे से अधिक भूमि पुनः प्राप्त हुई है, जिसका उपयोग अब विकासात्मक गतिविधियों के लिए किया जा सकता है।
उन्होंने यह भी उल्लेख किया है कि डालमिया सीमेंट के साथ एक समझौता ज्ञापन निष्पादित किया गया था जहां प्रक्रिया के उप-उत्पाद के रूप में निकलने वाले रिफ्यूज-व्युत्पन्न ईंधन (आरडीएफ) को उनके उपयोग के लिए सीमेंट कारखानों में भेजा जाता है। इस पहल ने तिनसुकिया को पुराने कचरे के बायोमाइनिंग के माध्यम से भूमि के पुनरुद्धार में एक मॉडल जिला बना दिया है।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल