नियमों को ताक पर रखकर राजधानी के आवासीय इलाके में बेचा जा रहा मांस

प्राथमिकी दर्ज, मामले की जांच में जुटी पुलिस

0
469
नियमों को ताक पर रखकर राजधानी के आवासीय इलाके में बेचा जा रहा मांस

गुवाहाटी, 24 फरवरी (हि.स.)। राजधानी गुवाहाटी में नियमों को ताक पर रखकर आवासीय इलाकों में खुलेआम गो मांस की बिक्री का मामला सामने आया है। इस संबंध हातीगांव थाने में बुधवार को एक प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। पुलिस दर्ज प्राथमिकी के आधार पर जब मौके पर पहुंची तो सभी दुकानदार अपनी दुकानों को बंद कर मौके से फरार हो गये।

उल्लेखनीय है कि पुख्ता सूचना के आधार पर गो ज्ञान फाउंडेशन, नई दिल्ली के सदस्यों ने बुधवार को राजधानी के हातीगांव थानांतर्गत ग्लोबल अस्पताल के बगल में मरियम होटल के नजदीक खानका रोड चाराली इलाके में पहुंचकर सूचना की तस्दीक की। आवासीय इलाके में पांच से अधिक दुकानों में खुलेआम गो मांस बेचे जाने का मामला सामने आया।

दुकानदारों से जब गो मांस बेचे जाने संबंधित आवश्यक अनुज्ञा पत्र के बारे में पूछताछ की गयी तो कुछ दुकानदारों गुवाहाटी नगर निगम (जीएमसी) की ओर से जारी लाइसेंस दिखाया। हालांकि, जो लाइसेंस दिखाया गया वह एक्सपायर हो चुका था। इतना नहीं आवासीय इलाके में स्थित दुकानों के अंदर पशुओं के खुर्र व अन्य अंग भी पाये गये। जिससे यह पता चला कि दुकानों में सिर्फ गो मांस की बिक्री ही नहीं हो रही है बल्कि, यहां पर पशु वध भी होता है।

इस संबंध में गो ज्ञान फाउंडेशन, नई दिल्ली की जोसाइन एंटोनी ने हातीगांव थाने में लिखित शिकायत दर्ज करायी। हातीगांव थाने में केस नंबर 147/21 आईपीसी 428/ 429/ 268/ 269/ 270/ असम पशु संरक्षण अधिनियम 1951 की धारा 5/6 एवं पशु क्रूरता निवारण अधिनियम 1960 की धारा 11 एवं महामारी अधिनियम की धारा 3 के तहत अवैध रूप से गो मांस बेचने के संबंध में प्राथमिकी दर्ज हुई है। पुलिस दर्ज प्राथमिकी के आधार पर मामले की जांच करने में जुटी हुई है।

गो ज्ञान फाउंडेशन ने लाइसेंस के संबंध में जब जीएमसी के कमिश्नर से बात की तो उन्होंने कहा कि इस तरह के कारोबार आवासीय इलाके में नहीं चल सकते हैं। इसको लेकर स्पष्ट कानून है। साथ ही उन्होंने कहा कि आवासीय इलाके में गो मांस बेचने के लिए लाइसेंस जारी नहीं किये जा सकते हैं।

वहीं मेनिका गांधी के संगठन पीपुल्स फार एनिमल के शशांकधर शेखर और गो ज्ञान फाउंडेशन, नई दिल्ली के सदस्यों ने स्थानीय विश्व हिंदी परिषद की राष्ट्रीय गोरक्षा आंदोलन समिति उमेश चंद्र पोरवाल, मनोज डेका ने संयुक्त रूप से गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर मुन्ना प्रसाद गुप्ता से मुलाकात कर आवासीय इलाके में अवैध रूप से चल रहे गो मांस के कारोबार पर लगाम लगाने की मांग की। साथ ही गुवाहाटी से मेघालय के रास्ते पड़ोसी देश बांग्लादेश को हो रही पशुओं की तस्करी पर भी रोक लगाने की मांग की। पुलिस कमिश्नर ने इस मामले में आवश्यक कदम उठाने का आश्वासन दिया है। उल्लेखनीय है कि उमेश चंद्र पोरवाल ने गौ ज्ञान फाउंडेशन के द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की है।

हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here