नेताजी विद्याभवन और नेताजी फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से नेताजी की १२५ वीं जयंती मनाई

0
660
नेताजी विद्याभवन और नेताजी फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से नेताजी की १२५ वीं जयंती मनाई

सुब्रत दास,बदरपुर: नेताजी विद्याभवन और नेताजी फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की १२५ वीं जयंती मनाई। सुबह ९ बजे स्कूल से प्रभात फेरी, साइकिल रैली, नेताजी, विवेकानंद, श्यामाप्रसाद की मूर्ति पर माल्यार्पण किया और बदरपुर चौमथा कॉलोनी से होते हुए स्कूल पहुंचे। विद्याभवन के प्रधानाचार्य निधन बिकास लोध ने सुबह १० बजे राष्ट्रीय ध्वज फहराया। स्कूल के शिक्षक शुभद्वीप लोध, स्वपा दे, मम्पी लोध, प्रगति सेन और परिमल कर्मकार इसमें उपस्थित थे। शाम ४ बजे को एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बदरपुर नवीन चंद्र कॉलेज अर्थशास्त्र विभाग के प्रमुख प्रोफेसर अरुण कुमार सेन, बदरपुर नवीन चंद्र कॉलेज के प्रोफेसर अर्जुन चंद्र देवनाथ बिद्याभवन प्रधानाचार्य निधन बिकश लोध, भाजपा नेता दीपक देव, वकील और भाजपा टिकट के दावेदार बिश्वभरन बरूआ, पूर्व नगर आयुक्त सीतांशु रॉय और सुनिर्मल वर्धन, बाबुल दास, नेताजी फाउंडेशन के अध्यक्ष रूपक रक्षित आदि उपस्थित थे। समारोह का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। फिर विद्याभवन के प्रधानाचार्य निधन बिकश लोध ने सभी मेहमानों का उत्तरीय पहनाकर स्वागत किया।

उद्घाटन वक्ता अरुण कुमार सेन ने कहा कि असंख्य सेनानियों ने भारत की स्वतंत्रता में योगदान दिया है। हालांकि लंबे संघर्ष के बाद हमें स्वतंत्रता मिली। इसमे नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने सबसे अधिक योगदान दिया। उन्होंने कहा कि नेताजी ने कहा था,’तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।’ नेताजी का मानना ​​था कि केवल धरना, सड़क आंदोलन और भाषण से ही स्वतंत्रता संभव नहीं होगी। अगर हम आजादी पाना चाहते हैं तो हमें अंग्रेजों के खिलाफ हथियारों से लड़ना होगा। उन्हें यह समझाने की जरूरत है कि भारतीय कमजोर नहीं हैं, वे स्वतंत्रता की भीख नहीं मांगते हैं, वे जानते हैं कि इसे कैसे छीनना है। उन्होंने कहा कि नेताजी और गांधीजी के बीच एक आदर्श अतीत था। गांधीजी मूल रूप से अहिंसा आंदोलन में विश्वास रखने वाले थे। लेकिन नेताजी ने बीज बोया कि अहिंसा के माध्यम से स्वतंत्रता संभव नहीं होगी। यदि आवश्यक हो, तो हमें हथियार उठाने होंगे।

इस अभियान में उन्होंने एक सेना का निर्माण किया। उसका नाम आजाद हिंद फौज था। उस समय लगभग ६०,००० सैनिक थे। और उन्होंने छात्रों और युवाओं के लिए कहा, हमें सिर्फ नेताजी का अनुसरण नहीं होगा। नेताजी के जन्मदिन के साथ-साथ नेताजी के ऋण को स्वीकार करने के लिए, इसके पीछे के उद्देश्य के लिए आभार व्यक्त करना। दूसरे और उन्होंने देशभक्ति और साहस के मार्ग पर चलने का आह्वान किया। उसका वाद असमिया, बंगाली, मणिपुरी नृत्य, योग, कराटे, नाटक, गीत और व्याख्यान किए। जनवरी पहले सप्ताह मे खेली गई इंटर-स्कूल प्रतियोगिता इनडोर और आउटडोर के पुरस्कार दिया गया। अंत में राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम समाप्त हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here