फॉलो करें

पतलू के जवाब पर पंचायत नतमस्तक ( हास्य व्यंग्य)

14 Views

 

गावों की संस्कृति से रुबरु कराते हुए मुझे दूर बैठे अपने ग्राम के दर्शन करने एवं स्वयं की उपस्थिति समझकर साहित्य की लकीर से हटकर ऐसे शब्दों का प्रयोग भी आप सबके लिए इसलिए कर रहा हूँ कि आप सभी को आनंद मिले भले ही संकोची पाठक प्रतिक्रिया ना दे।

   जब हम बङे बङे कवि सम्मेलन करते थे तो मुझे ही संचालन सौंपा जाता था बाहर से आये विद्वान अक्सर पुछते इसका आसय क्या है तो मुझे मजा आता कि…खैर।
    जब पंचायत में फैसला करने के लिए पंचों एवं दोनों पक्षों को आमंत्रित किया तो काफी भीड़ थी क्योंकि मामला एक विधवा बेटी गाँव की बहिन को थप्पड़ मारने का था। पतलू आकर धरती पर, सीर पर हाथ रखकर पश्चाताप कर रहा था तथा इंतजार कर रहा था कि क्या दंड मिलेगा वैसे वो घर में कह कर आया था कि समान बांधकर रखो शायद गाँव छोङने का फैसला आ जाए। सीर पर पल्लू लिए हरिया जब पंचायत में आयी तो सरपंच मालाराम ने हाथ जोड़कर बोला कि बिटिया तुम पर थप्पड़ मारकर पतलू ने गाँव एवं पंचायत के मूंह पर तमाचा मारा है जो तुम कहोगी वो ही सजा हम इसको देंगे। तरह के दंड देने के प्रस्ताव रखे गए लेकिन हरिया मिट्टी में लकीर खेंचकर कहती मुझे मंजुर नहीं। सब हैरान एवं परेशान थे कि ऐसे में क्या किया जाए तो अचानक पतलू खङा होकर सीधा हरिया के पास जाकर बोला हरिया बाई यह ले मेरी जुती मार मुझे लेकिन हरिया फिर बोली मंजुर नहीं तो पतलू बोला हरिया बाई  ( बहिन) एक बात बता जब जीजाजी मरे तो तू कैसे मान गयी??
   सब कांप गए पंचायत में सन्नाटा छा गया किसी अप्रिय घटना की आशंका से दोनों तरफ लाठियां हाथों में संभालने लगे तो हरिया बाई ( बहिन) खङी होकर कहा कि हालांकि पतलू ने बहुत बङा अपराध किया है लेकिन इससे भंयकर तो मेरे भाग्य में हुआ तब मैं कुछ भी नहीं कर सकी ना ही आप सब। पतलू मेरा भाई है अनपढ़ हैं लेकिन मेरी आँख खोल दी। रो रो कर पतलू के चिपट कर कहा कि मेरी पढीलिखी जीद्द के आगे तेरी तकरीर मुझे हरा दिया। दोनों बहन भाई रो रहे थे कि मालाराम ने ताली बजाकर पंचायत समाप्ति की घोषणा की।
मदन सुमित्रा सिंघल
पत्रकार एवं साहित्यकार
शिलचर असम
मो 9435073653

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल