बांग्लादेश प्रति व्यक्ति आय के मामले में भारत को पीछे छोड़ा, 51 साल बाद लिख दी नई कहानी

0
36
बांग्लादेश प्रति व्यक्ति आय के मामले में भारत को पीछे छोड़ा, 51 साल बाद लिख दी नई कहानी

ढाका.22 May दुनिया के सबसे गरीब देशों में से एक माने जानें वाले बांग्लादेश को बड़ी कामयाबी मिली है. बांग्लादेश ने प्रति व्यक्ति इनकम के मामले भी भारत को पीछे छोड़ दिया है. बांग्लादेश के योजना मंत्री एमए
मन्नान ने देश को बताया है कि बांग्लादेश में प्रति व्यक्ति इनकन 2064 डॉलर प्रति व्यक्ति से बढ़कर अब 2227 डॉलर हो गई है. मंत्री ने बांग्लादेश कैबिनेट की बैठक में ये आंकड़ा प्रधानमत्री शेख हसीना के सामने रखा. खबरों से मिली जानकारी के मुताबिक, बांग्लादेश के कैबिनेट सचिव खान्दकर अनवारूल इस्लाम ने पत्रकारों से बात करते हुए ये बात कही. साथ ही कहा प्रधानमंत्री शेख हसीना कैबिनेट मीटिंग में वर्चुअली शामिल हुई थीं.

नई रिपोर्ट के अनुसार, बांग्लादेश ने भारत को भी प्रति व्यक्ति इनकम में पीछे छोड़ दिया है. बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति आय अब 2227 डॉलर हो गई है. जबकि भारत में प्रति व्यक्ति इनकम 1947 डॉलर है. यानी अब बांग्लादेश भारत की तुलना में प्रति व्यक्ति आय 280 डॉलर अधिक है. बता दें कि भारत को प्रति व्यक्ति आय में बांग्लादेश का पीछे छोड़ा बड़ी बात है. यदि जनसंख्या के हिसाब से भी बात की जाए तो बांग्लादेश में भारत से ज्यादा
जनसंख्या घनत्व है. बांग्लादेश के कैबिनेट सचिव ने कहा कि ‘2020-21 वित्तीय वर्ष में बांग्लादेश में पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले प्रति व्यक्ति आय में 9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है. 2020-21 वित्त वर्ष में बांग्लादेश में प्रति व्यक्ति आय 2227 डॉलर है, जो पिछले वित्त वर्ष में 2064 थी.

जानकारी के लिए आपको बता दें कि 1971 में पाकिस्तान से टूटकर बांग्लादेश का निर्माण हुआ था. उस समय बांग्लादेश को सबसे गरीब देशों में गिना जाता था. लेकिन बांग्लादेश चुनौतियों का सामना करते हुए कछुए की चाल की तरह आगे बढ़ता गया. बांग्लादेश ने प्राकृतिक आपदाओं के अलावा अन्य चुनौतियों का सामना करते हुए 51 साल से बाद नई कहानी लिख दी. क्योंकि बांग्लादेश ने प्रति व्यक्ति इनकम के मामले में विशालकाय पड़ोसी देश भारत को पीछे छोड़ दिया है. साथ ही आपको बता दें कि साल 2007 में बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति आय भारत की तुलना में आधी थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here