भाजपा की सरकार बनी तो बराक नदी पर बनेंगे तीन पुल : सोनोवाल

0
415
भाजपा की सरकार बनी तो बराक नदी पर बनेंगे तीन पुल : सोनोवाल

गुवाहाटी, 30 मार्च (हि.स.)। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा है कि राज्य में भाजपा के नेतृत्व में यदि फिर से सरकार बनती है तो बराक नदी पर और तीन पुल बनाए जाएंगे, ताकि इस क्षेत्र का तेजी से विकास हो सके। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को बराक घाटी क्षेत्र के तीनों जिलों में कई चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि बराक घाटी में कृषि की अपार संभावनाएं हैं। बराक नदी इसके लिए वरदान स्वरुप मिला हुआ है।

उन्होंने कहा कि इसी बात को ध्यान में रखते हुए उनकी सरकार ने सिलचर में कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना करने की योजना बना रही है। सोनोवाल ने कहा कि उनकी सरकार बनने के दिन से लगातार असम के सभी जिलों को समान रूप से विकसित करने के काम में लगी हुई है। मध्यम वर्ग और गरीब तबके के लोगों को विभिन्न प्रकार से सहायता पहुंचाने की भी चेष्टा की गई है। उन्होंने कहा कि जो काम पांच वर्ष के कार्यकाल में अधूरे रह गए हैं, उन्हें पूरा करने के लिए भाजपा के उम्मीदवारों को भारी बहुमत से विजयी बनावें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बराक घाटी के तीनों जिलों में आधारभूत ढांचा को और अधिक विकसित करने की भाजपा सरकार की बेहद महत्वाकांक्षी योजना है। यदि भाजपा फिर से सत्ता में आती है तो बराक घाटी के जिलों की स्थिति और अधिक बेहतर बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने जाति, धर्म, भाषा, संप्रदाय आदि की भावना से ऊपर उठकर सभी को साथ लेकर चलने तथा सभी के जानमाल की हिफाजत करने के लिए कार्य किया है। समाज के हर तबके के व्यक्ति को ध्यान में रखा गया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में आपसी समन्वय की भावना को काफी ठेस पहुंचा था। एक-दूसरे के प्रति नफरत, अपराध, भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद आदि का बोलबाला हो गया था। अपने संबोधन में उन्होंने चाय मजदूरों से लेकर समाज के हर तबके के लिए किए गए कार्यों की चर्चा की।

मुख्यमंत्री ने आज बराक घाटी के राताबाड़ी, नॉर्थ करीमगंज, सिलचर, उदारबंद तथा सोनाई में भाजपा की चुनावी सभाओं को संबोधित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ स्थानीय उम्मीदवार तथा अन्य वरिष्ठ भाजपा नेता मौजूद थे।

हिन्दुस्थान समाचार / श्रीप्रकाश/अरविंद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here