फॉलो करें

भारत ने रचा इतिहास: चौथी बार जीता एशियाई हॉकी चैम्पियंस ट्राॅफी का खिताब

132 Views

नई दिल्ली. भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी के रोमांचक फाइनल में मलेशिया को 4-3 से हराकर चौथी बार खिताब अपने नाम कर लिया. चेन्नई में खेले गए फाइनल में मेजबान भारत हाफ टाइम तक 1-3 से पिछड़ रहा था लेकिन एक मिनट के अंदर दो गोल कर भारत ने 3-3 की बराबरी की. आखिरी क्षणों में आकाशदीप सिंह ने गोल कर भारत की जीत सुनिश्चित कर दी. इससे पहले भारत ने साल 2011, 2016 और 2018 में चैंपियन बना था.

भारत के लिए जुगराज सिंह (9वें मिनट), कप्तान हरमनप्रीत सिंह (45वें), गुरजंत सिंह (45वें) और आकाशदीप सिंह (56वें) ने जबकि  मलेशिया की तरफ से अबू कमाल अजराई (14वें),  रहीम राजी (18वें) और मोहम्मद अमीनुदीन (28वें)  ने गोल दागे. चेन्नई के मेयर राधाकृष्णन स्टेडियम में पिछले एक हफ्ते से चल रहे इस टूर्नामेंट में कोच क्रेग फुल्टन की भारतीय टीम का शुरू से दबदबा जारी रहा था. यहां तक कि फाइनल से पहले लीग राउंड में भी उसका मलेशिया से सामना हुआ था. तब टीम इंडिया ने एकतरफा अंदाज में उसे धो दिया था. भारतीय टीम की 5-0 से उस जीत के बावजूद फाइनल के मुश्किल होने की उम्मीद थी और ऐसा ही हुआ. मलेशिया ने टीम इंडिया को लंबे समय तक बैकफुट पर रखा.

मैच की शुरुआत बेहद कांटे की थी और दोनों टीमों में से कोई भी डिफेंसिव खेल के मूड में नहीं दिखे. अटैक लगातार होते रहे लेकिन पहली सफलता भारत को मिली, जब 9वें मिनट में जुगराज सिंह ने पेनल्टी कॉर्नर पर गोल दागा. मलेशिया ने हालांकि बराबरी में ज्यादा वक्त नहीं लिया और 14वें मिनट में अबु कमाल ने उसके लिए गोल किया. मलेशिया ने इसके बाद दूसरे क्वार्टर में दो गोल दागकर 3-1 की बढ़त ले ली. उसने 18वें और 28वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर भारतीय गोल को भेदा.

डिफेंस में हुई गलतियों के कारण टीम इंडिया को वापसी के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी और एक वक्त तो ऐसा लगा कि मलेशिया उसे मात दे देगी. तीसरे क्वार्टर के 14 मिनट के खेल में भारत को कोई सफलता नहीं मिली. फिर आखिरी मिटन में टीम इंडिया ने रोमांचक वापसी की. पहले तो टीम को पेनल्टी मिली, जिसे कप्तान हरमनप्रीत सिंह (45 मिनट) ने गोल में तब्दील कर दिया. फिर कुछ ही सेकेंड में गुरजंत सिंह (45 मिनट) ने एक खूबसूरत फील्ड गोल से टीम को बराबरी पर ले आए.

अब सिर्फ आखिरी 15 मिनट का खेल बाकी था और दोनों टीमों ने अटैक की रफ्तार बढ़ा दी लेकिन सफलता किसी को नहीं मिली. 60 मिनट का खेल पूरा होने से सिर्फ 4 मिनट पहले आकाशदीप सिंह (56 मिनट) ने एक जबरदस्त स्ट्राइक से गेंद को मलेशिया के गोल में दाग दिया और टीम को निर्णायक बढ़त दिला दी. इसके बाद तो भारत ने बचे हुए चार मिनट में मलेशिया को कोई मौका नहीं दिया और खिताब अपने नाम कर लिया.

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल