लघु उद्योग भारती ने पूर्वोत्तर के व्यापारियों को एक राष्ट्रीय प्लेटफार्म दिया -मनोज लुंडिया

0
132

विशेष प्रतिनिधि गुवाहाटी, 28 अप्रैल:लघु उद्योग भारती ने पूर्वोत्तर के व्यापारियों के लिए राष्ट्रीय स्तर का प्लेटफार्म दिया है। जनवरी 2016 में पूर्वोत्तर में लघु उद्योग भारती का शुभारंभ हुआ, मात्र 6 वर्षों में पूर्वोत्तर में 7 इकाइयों का गठन हो चुका है, 500 से ज्यादा सदस्य है। मेघालय में पूरी इकाई है, अरुणाचल और मणिपुर में भी सदस्य बन गए हैं। 22 से 25 अप्रैल को खानापाड़ा, गुवाहाटी में सातवां राष्ट्रीय उद्योग मेला आयोजित करके पूर्वोत्तर के व्यापारियों के लिए व्यापार का एक नया दौर लघु उद्योग भारती ने शुरू किया है।


उपरोक्त जानकारी देते हुए लघु उद्योग भारती पूर्वोत्तर के सभापति मनोज लुंडिया ने बताया कि बीएल अग्रवाल के साथ मिलकर 2016 में उन्होंने लघु उद्योग भारती शुरू किया था। लघु उद्योग भारती ने पूर्वोत्तर के व्यापारियों के लिए राष्ट्रीय स्तर का प्लेटफार्म दिया है। मनोज लुंडिया 2016 में लघु उद्योग भारती पूर्वोत्तर के उपाध्यक्ष, 2018 में कार्यकारी अध्यक्ष, 2019 में अध्यक्ष तथा 2021 में दोबारा अध्यक्ष बने।
मनोज जी ने हमारे प्रतिनिधि को बताया कि 3 महीना पहले जब राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक गुवाहाटी के लिए तय हुई, जिसमें पूरे भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पदाधिकारियों का आगमन सुनिश्चित हुआ तभी विचार आया कि पूर्वोत्तर में व्यापार की जो संभावनाएं हैं, उनके समक्ष लाने के लिए सातवां राष्ट्रीय उद्योग मेला गुवाहाटी में ही आयोजित किया जाए। उन्होंने बताया कि फिर वे लोग असम के मुख्यमंत्री डॉ हिमंत विश्वशर्मा से मिले और उन्हें जानकारी दी। वे बहुत खुश हूए, उन्होंने पूरा सपोर्ट किया और उद्योग मंत्रालय को इस कार्यक्रम के आयोजन में लगा दिया। फिर केंद्र सरकार से भी संपर्क किया गया, उन्होंने भी भरपूर सहयोग दिया और गुवाहाटी में ऐतिहासिक सातवां भारत उद्योग मेला आयोजित हुआ।


मेले में तीनों दिन भारत सरकार के मंत्री तथा असम सरकार के मंत्रियों का आना जाना लगा रहा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ कृष्ण गोपाल जी जो लघु उद्योग भारती के संपर्क अधिकारी हैं, 2 दिन उपस्थित रहे। मनोज लुंडिया ने बताया कि उनका उद्देश्य सफल हुआ, अनेक स्थानीय व्यापारियों के साथ देश के अन्य भाग के व्यापारियों का संपर्क हुआ। अब आदान-प्रदान का सिलसिला शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मेले में 30 से 40 हजार लोग आए, भविष्य में इस प्रकार मेला लगे तो सभी व्यापारियों को इसमें अपना स्टाल लगाना चाहिए। 10 सेमिनार हुवे, जिसमें अनेक विशेषज्ञों ने तमाम सारी जानकारियां प्रदान की।
फ्लिपकार्ट, अमेजन और ई- मार्केटिंग वाले भी आए उन्होंने बताया कि उनके साथ व्यापार कैसे कर सकते हैं, इस तरह का आयोजन बहुत जरूरी है। भविष्य में और अच्छा करने का प्रयास करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here