फॉलो करें

श्री कृष्ण रुक्मिणी कलाक्षेत्र द्वारा एक वर्षीय अंतर्राष्ट्रीय अधिवर्ष उत्सव का उद्घाटन समारोह संपन्न

60 Views
शिलचर 13 मई: श्री कृष्ण रुक्मिणी कलाक्षेत्र द्वारा  एक वर्ष तक चलने वाले प्रथम संस्कृत अंतर्राष्ट्रीय अधिवर्ष उत्सव 2024-25 का उद्घाटन दिनांक 12 मई 2024 को काछाड़ जिले के दक्षिण बेकीरपार में स्थित सन् 1841 में स्थापित शिखा ठाकुर राधा-गोविन्द सेवाश्रम में आयोजित किया गया। वर्षोत्सव के  उद्घाटन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता असम विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग के आचार्य एवं संस्कृत भारती दक्षिणी-असमप्रांत के  प्रान्त प्रचार प्रमुख डॉ. गोविन्द शर्मा थे।
अपने उद्बोधन में डॉ. गोविन्द शर्मा ने कलाक्षेत्र द्वारा संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए किये जा रहे कार्यों एवं प्रयासों की प्रशंसा की, वर्षोत्सव के उद्देश्य का विस्तृत विवेचन किया। साथ ही आश्वासन दिया कि संस्कृतभाषा के लिए किये जा रहे कार्यों में असम विश्वविद्यालय एवं संस्कृत-भारती दोनों का ही सम्पूर्ण सहयोग मिलेगा। स्थानीय क्षेत्र के सभी निवासी संस्कृत समझ सकें, इसका प्रयास करना चाहिए। भारतीय ज्ञान परंपरा का मूल स्त्रोत संस्कृत है, अतः सभी भारतवासियों को संस्कृत का अध्ययन करना ही चाहिए। संस्कृत भाषा के सहयोग से स्थानीय भाषाओं का भी विकास संभव है, लुप्तप्राय बहुत सी भाषाएं संस्कृत भाषा के सहारे पुनर्जीवित हो सकती है।
इसी को ध्यान में रखते हुए श्री कृष्ण रुक्मिणी कलाक्षेत्र के अध्यक्ष लेखक विधान सिन्हा ने राष्ट्रपति को लिखे एक पत्र द्वारा मांग की कि भारत की प्रत्येक जिलों में अतिरिक्त राजकीय भाषा के रूप में संस्कृत को मान्यता दी जाए एवं देशभर में समग्र ग्राम पंचायत स्तर तक संस्कृत को मातृभाषा में पढ़ने की व्यवस्था हेतु विद्यालयों का निर्माण किया जाना चाहिए। इस पत्र को केंद्रीय गृह-सचिव एवं असम सरकार को कार्यान्वयन  हेतु राष्ट्रपति द्वारा अग्रेषित भी किया गया। एतदर्थ एक वर्षात्मक संस्कृत उत्सव प्रत्येक लीप वर्ष में मानने का निर्णय अक्षय तृतीया के दिन लिया गया। संस्कृत उत्सव के साथ-साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम, कलाक्षेत्र विषु उत्सव एवं रंगाली बिहू सम्मेलन का आयोजन भी किया गया। सत्र के आरम्भ में स्वस्ति वाचन प्रकाश सिंह ने किया और अमृता सिंह ने भारत वन्दना पेश किया। प. नील माधब सिंह, दिलीप कुमार सिंह, गोपाल सिंह, मोतीलाल सिंह, बीरेन्द्र चन्द्र सिंह, अमृता सिंह, शर्मिला सिंह विशिष्ट-अथिति के रूप में सत्र में उपस्थित थे। प. हरिकान्त सिंह ने धन्यवाद ज्ञापन किया गया। राष्ट्र गान के साथ सत्र का समापन किया गया।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल