सर्व गुण संपन्न फल “ हिसालू “ खायें तो शरीर को मिलेगा नवरत्न फलों समान शक्ति अतनु दास

0
66

ये फल खाया है आपने टैस्ट कैसा होता है बताओ ।

सर्व गुण संपन्न फल “ हिसालू “ खायें तो शरीर को मिलेगा नवरत्न फलों समान शक्ति अतनु दास

गर्मियों में उत्तराखंड (Uttarakhand) के पहाड़ों में कंटीली झाड़ियों के बीच उगने वाला एक रसदार फल होता है जिसे हिसालू (Hisalu) कहते हैं.हिसालू को हिमालय की रास्पबेरी भी कहा जाता है. इसका लेटिन नाम रुबस इलिप्टिकस (Rubus elipticus) है , जो कि Rosaceae कुल की झाड़ीनुमा वनस्पति है. विश्व में इसकी लगभग 1500 प्रजातियां पायी जाती है.हिसालू का दाना कई छोटे-छोटे नारंगी रंग के कणों का समूह जैसा होता है. हिसालू खाने में खट्टा और मीठा होता है. अच्छी तरह से पका हुआ हिसालू बहुत अधिक मीठा होता है.पका हुआ हिसालू इतना कोमल होता है कि हाथ में पकड़ते ही टूट जाता है और जीभ में रखते ही पिघल जाता है. ज्यादा हिसालू खाने से नींद भी आ जाती है.हिसालू की जात बड़ी रिसालू,जां जां जांछे उधेड़ि खांछे,यो बात को कोइ गटो निमान,दुध्याल की लात सौनी पड़ंछै.(हिसालू की नस्ल बड़ी गुस्से वाली है, जहां-जहां जाती है खरोंच देती है, तो भी कोई इस बात का बुरा नहीं मानता, क्योंकि दूध देने वाली गाय की लात सहनी ही पड़ती है.)उत्तराखंड के अलावा हिसालू भारत में लगभग सभी हिमालयी राज्यों में उच्च उंचाई पर पाया जाता है जिसमें असम के उंचाई वाले इलाक़े भी शामिल है । भारत के अलावा यह नेपाल, नेपाल, पाकिस्तान, पोलैण्ड, सर्बिया, रूस, मेक्सिको, वियतनाम आदि देशों में पाया जाता है.हिसालू के केवल खाने में ही स्वादिष्ट होता है ऐसा नहीं है इसके बहुत से औषधीय गुण भी हैं. हिसालू को एंटीआक्सीडेंट प्रभावों से युक्त पाया गया है. इसकी ताजी जड़ों के रस का प्रयोग पेट से जुड़ी बिमारियों के लिये किया जाता है.हिसालू में अनेक पोषक तत्व पाये जाते हैं. हिसालू में कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम मैग्नीशियम, आयरन, जिंक, पोटेशियम, सोडियम व एसकरविक एसिड उपलब्ध होते हैं. इसमें विटामिन सी 32 प्रतिशत, फाइबर 26 प्रतिशत, मैंगनीज़ 32 प्रतिशत तक पाया जाता है. हिसालू में शुगर की मात्रा सिर्फ 4 प्रतिशत तक ही पायी गयी है.हिसालू के दानों से प्राप्त रस का प्रयोग बुखार, पेट दर्द, खांसी एवं गले के दर्द में भी फायदेमंद होता है.तिब्बती चिकित्सा पद्धति में हिसालू की छाल का प्रयोग सुगन्धित एवं कामोत्तेजक प्रभाव के लिए किया जाता है.हिसालू के दानों से प्राप्त रस का प्रयोग बुखार, पेट दर्द, खांसी एवं गले के दर्द में भी फायदेमंद होता है.हिसालू जैसी वनस्पति को सरंक्षित किये जाने की आवश्यकता को देखते हुए इसे आई.यू.सी.एन . द्वारा वर्ल्ड्स हंड्रेड वर्स्ट इनवेसिव स्पेसीज की लिस्ट में शामिल किया गया है.जलवायु परिवर्तन का प्रभाव भी हिसालू पर देखा गया है. अमूमन 2500 से 7000 फीट की उंचाई पर सामान्य रुप से पाया जाने वाला हिसालू अब अधिक उंचाई पर पाया जाने लगा है.उत्तराखंड में हिसालू का उत्पादन कहीं पर नहीं होता है. इसके बावजूद गर्मियों में नैनीताल जैसे हिल स्टेशन की सड़कों पर 30 रुपया प्रति सौ ग्राम की दर से हिसालू बिकता दिखता है. सैलानी जिसे 300 रुपया किलो खरीद कर खा रहे हैं सरकार की नज़र भी इस फल के लाभदायक व्यवसाय करने की ओर गई है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here