हिंदीभाषी विकास परिषद का नेतृत्व जनाधार हीन लोगों को देने पर हिंदी भाषी संगठनों ने जताई आपत्ति

0
618
जनगणना में मातृभाषा हिंदी लिखाने हेतु हिंदीभाषी चाय जनसमुदाय मंच की अपील

सर्व हिंदुस्तानी युवा परिषद के सभी सदस्यों ने एवं पूर्वोत्तर की सभी इकाइयों ने एक जुट होकर हाल ही में बने हिंदीभाषी विकास परिषद के गठन पर आपत्ति जताई है, उनका कहना है कि एक ऐसे व्यक्ति विशेष को इसकी कमान दी गयी है, जिसका जनाधार न के बराबर है और इस बारे में हिंदी भाषी समाज के लिए काम कर रहे हैं किसी भी संगठन से परामर्श नहीं किया गया। जहां एक ओर हिंदीभाषी समाज की एकजुटता की बात है तो अशोक सिंघल और विजय गुप्ता जैसे लोगों ने हिंदी भाषी समाज के साथ विश्वासघात किया है।

पार्टी अब ज़मीन एवं सरोकार से जुडे लोगों को नही रखना चाहती है, ऐसे लोगों को प्रश्रय दे रही है जो हिंदीभााष समाज मे कभी कोई बड़ा कार्य या मुद्दों को उठाने में नाकाम रहे है। उनकी पकड़ महज़ फेसबुक के फोटो एल्बम तक सीमित है या बड़े पदों पर रहने वाले नेताओं की जी हजूरी में बीतती है। सर्व हिंदुस्तानी युवा परिषद इस प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से इस हिंदीभााष विकास परिषद के गठन प्रक्रिया का कड़े लफ़्ज़ों में विरोध प्रकट करता है और आने वाले चुनावों में भी इसका असर देखने को मिलेगा।

बराक घाटी के भी हिंदीभाषी संगठनों ने इस प्रकार गुपचुप तरीके से परिषद के गठन पर आक्रोश प्रकट किया है तथा सरकार को चेतावनी दी है इसका परिणाम आने वाले चुनाव में ठीक नहीं होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here