Home संपादकीय

संपादकीय

हमारे कर्मों से भगवान हमसे रूठ गए हैं- डा. आशंमा बेगम

0
प्रस्तुत है, जीवों के प्रति दया भाव रखने वाली, कई राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित, जिनके ऊपर राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय, समाचार माध्यमों ने स्टोरी किया है,...

स्वतंत्रता दिवस २०२१ पर डॉ हिमंत विश्वशर्मा के विचार

0
हमारे देश के साथ-साथ हमारा राज्य भी १५ अगस्त, २०२१ को ७५वां स्वतंत्रता दिवस मनाने की तैयारी में है। मैं उस गौरवशाली क्षण के...

मीडिया संस्थान की आड़ में अवैध धंधों की फुलवारी-विवेक भटनागर

0
गैर-सरकारी संगठनों (NGO) के माध्यम से अपने धन को ऊंचा-नीचा करने वाले मीडिया संस्थान अपनी व्यवस्था को बेहतर करें और इमानदारी अपनाएं। सच सबको...

ब्लैक-व्हाइट-वर्म होल, ह्यूमन टाइम मशीन और मौत के कारण की एक ‘हाइपोथीसिस’ कहानी हृदय...

0
विवरण: "ब्लैक-व्हाइट-वर्म होल, ह्यूमन टाइम मशीन और और मौत के कारण" के उपर एक 'हाइपोथिसिस' कहानी भारत के असम राज्य में रहने वाले एक...

बुनियादी ढांचे को विकसित करने व विभिन्न मांगों को लेकर बराक वैली स्मॉल एंड...

0
सिलचर : बराक वैली स्मॉल एंड मीडियम न्यूजपेपर एसोसिएशन विभिन्न मांगों के साथ राज्य के सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी नीरा गोगोई सनयाल और कार्यवाहक निदेशक...

रामदेव व्यापार करते हैं, इसलिए वो पापी हैं, एक एजेंडवादी नरेटिव है। -संवेद अनु

0
इन दिनों एक नरेटिव खूब चलता है कि बाबा रामदेव व्यापारी हैं संत नहीं,बाबा नहीं।उन्होंने आयुर्वेदिक दवा और योग को बेच कर पाप किया...

प्रेरणा भारती के पाठकों से विशेष अपील

0
सम्मानीय, सहृदय पाठक बंधु/ भगिनी, आशा है ईश्वर की कृपा से आप सभी इस महामारी के दौरान सपरिवार सकुशल होंगे। हमें आपको बताते हुए...

पाठकों से विशेष अपील

0
प्रेरणा भारती के सम्मानीय, सहृदय पाठक बंधु/ भगिनी, आशा है ईश्वर की कृपा से आप सभी इस महामारी के दौरान सपरिवार सकुशल होंगे। हमें...

लघु और मध्यम पत्रिका उद्योग गंभीर संकट में

0
देश के छोटे और मध्यम दैनिक और साप्ताहिक समाचार पत्र भयानक समस्याओं से जूझ रही है, महत्वपूर्ण रूप से इसे उद्योग संकट का सामना...

पाठकों के पत्र

0
।। हमारे बच्चे भी प्रतिभावान हैं।। इस घाटी में हम हिंदी भाषी लाखों के तादाद में रहते हैं। उनमें बहुत सारे प्रतिभावान युवक युवतियाँ हैं,...

ताजा खबरे

बराक-ब्रह्मपुत्र नहीं असम-असम होना चाहिए: मुख्यमंत्री

0
बराक- बराक, ब्रह्मपुत्र-ब्रह्मपुत्र नहीं असम-असम होना चाहिए। 2 दिन के शिलचर प्रवास के उपरांत गुवाहाटी जाने से पूर्व पत्रकारों से बात करते हुए एक...

जनप्रिय खबरे