असम विधानसभा चुनाव, दिलों से दिलों को जोड़ गया प्रथम चरण मतदान

[ कोरोना के बाद जब पहली बार परदेशी आये घर वोट देने ]

0
437
[ कोरोना के बाद जब पहली बार परदेशी आये घर वोट देने ]

हमारे ब्यूरो प्रमुख मनोज कुमार ओझा

तिनसुकिया,27 मार्च : खुशियाँ दे गया ये चुनाव. कहीं माँ के आँचल में बेटे के लिए वातसल्य और आँखों में पानी था तो कहीं भाई-भाई गले मिल रहे थे.

दरअसल, कोरोना के वजह से अपर असम के सैकड़ों परिवार जो बाहर रह रहे थे, उनका आना -जाना बंद था. लेकिन वोट तो देना ही है. अपना प्रिय सरकार तो चुनना ही है. और चुकि वोटर लिस्ट में तो नाम अपने पैतृक घर पर ही है इसलिए घर तो आना ही है.

” जी, मैं डिब्रुगढ़ रहता हूँ. वहीं एक प्राइवेट बैंक में अधिकारी हूँ. कोरोना की वजह से मैं अपने पैतृक घर नहीं आ पा रहा था. आज सुबह तिनसुकिया जिले के दुमदुमा पहुंचा हूँ वोट डालने. घर में माता जी और परिजनों से मिलकर बहुत खुश हूँ. ” दुमदुमा में वोट डालने हेतु जा रहे एक मतदाता ने कहा, जो अपने साथ अपने माँ को पोलिंग बूथ पर ले जा रहे थे.

राज्य के बाहर रहने वाले और सैकड़ो लोग या तो वोट देने के लिए आये या पहले से ठहरे हुए थे.

ग्रामीण क्षेत्रों के अधिकांश बूथों से पर्याप्त दुरी पर पान – ताम्बूल, चाट -पकोड़ी, झाल -मुरी, घुघनी बिक रही थीं. माहौल शांति-पूर्ण और खुशनुमा था. सम्भवतः कोरोना के बाद इतने बड़े स्तर पर पहला पब्लिक समन्वय था.

हालांकि गर्मी की वजह से बारह बजे तक मतदान धीमी रही जो बाद में तीव्रतर हुई.

आज शाम साढ़े पांच बजे तक लगभग 72परसेंट तक मतदान हो चूका था.

कहना न होगा की आज असम विधानसभा के 47 सीटों हेतु अपर असम में प्रथम चरण का मतदान सम्पन्न हुआ जिसमे मतदाताओं की संख्या 81.09 है.

अगले दो चरण के चुनाव क्रमशः 1 और 6 अप्रैल को होंगे.

चुनाव परिणाम 2 मई को घोषित होंगे.

यद्यपि पोलिंग बूथस के बाहर लम्बी कतारें देखी गईं तथापि हर जगह कोविड -19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन किया गया. कहीं -कहीं फर्स्ट टाइम वोटर्स को पौधा देकर स्वागत किया गया. वोटिंग सुबह सात बजे शुरु हुआ. आज चुनाव मैदान में कुल 264 उम्मीदवार थे जिनमे 23 महिलाएं और 78 इंडिपेंडेंट थे.

मुख्यमंत्री सोनोवाल समेत कई टॉप लीडर्स आज के चुनाव में

आज का पोलिंग लोकप्रिय मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के साथ ही हितेंद्र नाथ गोस्वामी, रिपुन बोरा, अतुल बोरा, लूरिन ज्योति गोगोई, अखिल गोगोई, रोकीबूल हुसैन, देवव्रता साईकिआ, भूपेन कुमार बोरा, अजीजूर रहमान और जगदीश भुइया का भाग्य तय करेगा.

मुख्यमंत्री सोनोवाल माजुली सीट से चुनाव लड़ रहे है.2016 में 49,602 वोट से इसी सीट से उनकी जीत हुई थी.

दूसरी ओर असम जातीय परिषद के प्रेसिडेंट और आसू जनरल सेक्रेटरी लूरिन ज्योति गोगोई दुलीजन और नहरकटिया सीट से अपना भाग्य आजमा रहें हैं.2016 में दुलीजान सीट बीजेपी जबकि नाहरकाटिया सीट एजीपी ने जीती थी.

यह जानना भी दिलचस्प होगा कि कृषक मुक्ति संग्राम के नेता और राइजोर दोल के फाउंडर अखिल गोगोई शिवासागर से चुनाव लड़ रहें. यहां 2001 से कांग्रेस के उम्मीदवार और पूर्व स्पीकर प्रणब कुमार गोगोई चुने जाते रहे हैं.

मतदाताओं ने असम सरकार और चुनाव आयोग को शांतिपूर्ण व व्यवस्थित चुनाव सम्पन्न कराने हेतु धन्यवाद दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here