फॉलो करें

उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय, भारत सरकार की हिंदी सलाहकार समिति की बैठक दिल्ली में आयोजित, शिलचर से पत्रकार व समाजसेवी दिलीप कुमार ने बैठक में भाग लिया

647 Views
विशेष प्रतिनिधि नई दिल्ली 9 जनवरी: उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय, भारत सरकार की हिंदी सलाहकार समिति की बैठक 09 जनवरी, 2024 को पूर्वाह्न 11.00 बजे विज्ञान भवन, नई दिल्ली में आयोजित की गई। उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास राज्य मंत्री श्री बी. एल. वर्मा ने बैठक की अध्यक्षता की। समिति के सदस्यों में से माननीय संसद सदस्य रेबती त्रिपुरा और धर्मेंद्र कश्यप तथा अन्य नामित सदस्यों के साथ-साथ मंत्रालय तथा इसके अधीनस्थ कार्यालयों के अधिकारियों और राजभाषा विभाग के प्रतिनिधि ने बैठक में भाग लिया। इस अवसर पर राज्य मंत्री श्री बी. एल. वर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्र को सुदृढ़ बनाने के लिए यह आवश्यक है कि हम सब अपने कामकाज औरव्यवहार में हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करें क्योंकि हिंदी ही वह भाषा है जिसे देश के अधिकांश लोग बोलते और समझते हैं और जो लोगों में एकता का संचार करने में सफल रही है।
इसबैठक में उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय और इसके अधीनस्थ कार्यालयोंमें सरकारी कामकाज में हिंदी के प्रयोग में हो रही प्रगति की समीक्षा की गई और सदस्यों द्वारा दिए गए सुझावों पर परस्पर विचार-विमर्श किया गया। सदस्यों ने अपने सुझावों में मंत्रालय के अधीनस्थ कार्यालयों में हिंदी पुस्तकों की खरीद पर नियमानुसार व्यय करने, हिंदी प्रशिक्षण के लिए अधिक से अधिक अधिकारियों और कर्मचारियों के नामित करने, हिंदी के रिक्त पदों को प्राथमिकता से भरने और सभी कार्यालयों की वेबसाइटों को पूरी तरह से द्विभाषी रूप से बनाने से संबंधित सुझाव प्रमुखता से दिए। राज्य मंत्री जी ने सदस्यों को अवगत कराया कि उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय का कार्यक्षेत्र देश के उत्तर पूर्वी राज्यों के अंतर्गत आता है जो राजभाषा अधिनियम, 1963 के अंतर्गत बनाए गए नियमों के तहत “ग” क्षेत्र में कवर होता है। जहां देश की राजभाषा के प्रचार-प्रसार और सरकारी कामकाज में इसके प्रयोग में भले ही कुछ व्यावहारिक कठिनाइयां और सीमाएं हैं, फिर भी उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय सरकारी कामकाज में हिंदी का प्रयोग क्रमबद्ध रूप से बढ़ाने और हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु लगातार प्रभावी प्रयास कररहा है।
 राज्य मंत्री जी ने कहा कि उन्हें आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्वास है कि समिति के माननीय सदस्यों द्वारा की जाने वाली समीक्षा और उनके बहुमूल्य सुझावों एवं विचार-विमर्श से मंत्रालय और इसके अधीनस्थ कार्यालयों के सरकारी कामकाज में हिंदी के प्रयोग की गति में और अधिक तेजी आएगी।
 बैठक में मुख्य रूप से उपस्थित सदस्यों में पूर्वोत्तर से पत्रकार व समाजसेवी दिलीप कुमार, राष्ट्रभाषा प्रचार समिति के सचिव क्षीरदा शैकिया, सीतामढ़ी बिहार से हरिशंकर भारती, बदायूं से अजीत कुमार वैश्य, पश्चिम बंगाल से डॉक्टर नागेंद्र कुमार, बेंगलुरु से सीताराम जी, दिल्ली से डॉक्टर अनिल जैन, संयुक्त सचिव श्रीमती अनुराधा,  सचिव विजय कुमार बाल्यान सहित अधीनस्थ कार्यालयों के प्रमुख अधिकारी तथा राजभाषा के अधिकारीगण शामिल थे।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल