फॉलो करें

तुफान ओलावृष्टि से चाय बागानों में भारी नुकसान भरपाई मुश्किल- सर्देंदू भट्टाचार्य

23 Views
काछाड़- पिछले कुछ दिनों में आए तूफ़ान और बार-बार ओलावृष्टि ने कछार, करीमगंज और हैलाकांडी जिलों के चाय बागानों में विनाशकारी प्रभाव डाला है। पिछले मंगलवार की रात को आए तूफ़ान और ओलावृष्टि ने हैलाकांडी जिले के चाय बागानों को बुरी तरह से नुकसान पहुँचाया है। ओलावृष्टि और तूफ़ान के कारण हज़ारों हेक्टेयर चाय बागानों को नुकसान पहुँचा है, एलपी, एमएस और यूपी क्षेत्र में पत्तियों के फटने और गिरने की समस्या हुई है, छायादार पेड़ गिर गए हैं, बिजली के तार और खंभे उखड़ गए हैं, कई जगहों पर घरों, फ़ैक्टरी और स्टोर-बिल्डिंग की छतें उड़ गई हैं। हैलाकांडी में हमारे सदस्य बागानों अर्थात् ऐनाखल टी एस्टेट, रूपचेरा टी एस्टेट, मणिपुर टी एस्टेट, मणिपुर टी एस्टेट, कोया टी एस्टेट, साउथ कछार टी एस्टेट, बर्नी ब्रेस टी एस्टेट और हैलाकांडी जिलों के कुंचनपोर टी एस्टेट को काफ़ी नुकसान हुआ है। कछार जिले के द्वारबंद (चटला-भील) क्षेत्र के हमारे सदस्य चाय बागानों अर्थात् इरिंगमारा चाय बागान, बोरोजलिंगा चाय बागान, पश्चिम जलिंगा चाय बागान, कैलाशपुर चाय बागान और द्वारबंद चाय बागान को भी पिछले मंगलवार की रात में चक्रवाती तूफान और ओलावृष्टि के कारण व्यापक नुकसान हुआ है। हम पिछले वर्ष की इसी अवधि में काटी गई फसल की तुलना में मई 2024 के महीने में 50% फसल के नुकसान की आशंका कर रहे हैं।
बराक घाटी के चाय बागानों में अप्रैल, 2024 के महीने के दौरान बिजली की आपूर्ति अनियमित थी, जिसके कारण चाय बागानों को कैप्टिव बिजली उत्पादन पर निर्भर होना पड़ा, जिसके परिणामस्वरूप उत्पादन की लागत में असामान्य और अलाभकर वृद्धि हुई। बराक घाटी को मेघालय के माध्यम से गुवाहाटी से जोड़ने वाले सतही परिवहन की निराशाजनक स्थिति के साथ प्रतिकूल स्थिति और भी खराब हो गई, विशेष रूप से सोनापुर खंड में लगातार भूस्खलन के कारण।  लुम्पोर के पास रेल लाइन के बदरपुर-लुमडिंग खंड की मरम्मत चल रही है, घाटी को मुख्य भूमि से जोड़ने वाली कई ट्रेनें पिछले कुछ दिनों में रद्द कर दी गई हैं। हमें आने वाले बरसात के मौसम में औद्योगिक इनपुट के परिवहन और घाटी के उत्पादित चाय के प्रेषण में अव्यवस्था की आशंका है। तूफ़ान से होने वाली क्षति, ओलावृष्टि से होने वाली क्षति, नियमित गुणवत्ता वाली बिजली आपूर्ति की अनुपलब्धता और इस पिक प्लकिंग सीज़न के दौरान इनपुट और आउटपुट के परिवहन में अनिश्चितता के संचयी प्रभाव ने इस क्षेत्र के चाय उद्योग की स्थिरता पर सवालिया निशान लगा दिया है। टी एशोसिएशन इंडिया के सचिव सर्देंदू भट्टाचार्य ने असम सरकार का ध्यान आकर्षित करने एवं कुछ राहत देने की अपील की।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल