फॉलो करें

प्रधानमंत्री तो नरेंद्र मोदी ही बनेंगे भले ही सीटों का कमोबेश हो सकता है-मदन सुमित्रा सिंघल

22 Views

अब देश में गाँव गाँव गली गली में चुनावी शोर नहीं होता लेकिन टेलीविजन सोसल मिडिया पर लोग अभिनेता अभिनेत्री की तरह पचास से अधिक राजनीतिक दलों को चुनावी जनसभाओं में कङकती धूप में लोगों से वोट मांगते एवं एक दूसरे पर चोट करते देख रहे हैं। इस बार मुद्दे राष्ट्रीय चुनाव अवश्य है लेकिन आये दिन बदल रहें हैं।  नरेंद्र मोदी अमित शाह राजनाथ सिंह योगी आदित्यनाथ डा हिंमत विश्व शर्मा के अलावा भाजपा कुछेक मुख्यमंत्रियों को से चुनाव प्रचार करवा रहे हैं। देश के कोई भी क्षेत्र को छोङना नहीं चाहते। तीस साल बाद बंफर सीटों के साथ 2014 में भाजपा ने दमखम के साथ सरकार बनाकर इतने काम करने के साथ पुरवर्ती सरकारों के खड्डे भरने अधुरी परियोजनाओं को पूरा करने के साथ साथ चुपचाप काम इसलिए किया कि देश विदेश को भारत का खोखलापन भ्रष्टाचार दयनीय स्थिति की जानकारी ना हो। छोटे छोटे कामों के साथ 2019 में दोबारा मार्जिन के साथ आकर बङे एवं कङे फैसले लेकर विश्व में डंका बजा दिया। ऐसे में देश के राजनीतिक दलों के साथ विकसित देशों की चिंता स्वाभाविक ही थी कि भारत में भाजपा विश्व की सबसे बड़ी पार्टी वो भी आन बान शान के साथ पूरे विश्व पर दबदबा कायम रखने के लिए ऐसे फैसले ले रही है तो भी बिना चिंता के प्रधानमंत्री ने रिकॉर्ड बनाने में दिनरात काम किया।   विपक्षी गठबंधन हाशिये पर आयी हुई कांग्रेस के साथ सभी राजनीतिक दलों ने मन मारकर साथ निभाने का स्वांग रचाया लेकिन मन में अनेक राजनेताओं को प्रधानमंत्री बनने की इच्छा भी हुयी जो अतित में हुआ भी था। लेकिन भाजपा ने ऐसी इच्छा रखने वाले नेताओं को भी राजनीति से मजबूर कर दिया कि भाषा बदल गयी। विपक्षी गठबंधन 150 से अधिक सीट जीतने में सफल होता नजर नहीं आ रहा। भाजपा 2019 की स्थिति बना कर रखने में कामयाब हो सकती है। 350 सीट अपने सहयोगियों के साथ आने से मजबूत सरकार बनेगी‌।  फिर भी सीटों का घटना बढना हो सकता है लेकिन मजबूत एवं सम्मान जनक स्थिति बनेगी।  लेकिन यह तय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही बनेंगे सरकार भाजपा की ही बनेगी। हिंदी प्रदेशों में कुछ सीटों में कमी आने से दक्षिण में भरपाई होगी। यही भाजपा की रणनीति रही है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत विकसित सम्मानित एवं उर्जावान बना है। पारदर्शिता के साथ हर भारतीय अपने आप को सुरक्षित स्वाभिमानी समझने लगा है इसलिए देशहित में जितने साल भी नरेंद्र मोदी का नेतृत्व भारत को मिले उसमें ही भारत की बेहतरी है।

मदन सुमित्रा सिंघल
पत्रकार एवं साहित्यकार
शिलचर असम
मो 9435073653

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल