फॉलो करें

बदरुद्दीन अजमल का दावा एआइयुडीएफ के उम्मीदवार ही महागठबंधन के उम्मीदवार हैं

276 Views

प्रे.सं. हाइलाकांदी, 27 मार्च: दक्षिण हाइलाकांदी के जामिरा में एक चुनावी सभा में एआइयुडीएफ के उम्मीदवार ही महागठबंधन के उम्मीदवार हैं, ऐसा दावा किया पार्टी सुप्रीमो मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने।शुक्रवार को जामिरा में एआईयूडीएफ की विशाल चुनावी जनसभा में काटलीछड़ा निर्वाचन क्षेत्र के लिए कांग्रेस उम्मीदवार संजीव राय की समालोचना करते हुए आजमल ने कहा कि महागठबंधन के उम्मीदवार सुजाम उद्दीन लश्कर है। कांग्रेस के उम्मीदवार संजीव राय वोटों के बंटवारे के लिए यहां आए हैं। अजमल ने उसे आश्रय नहीं देने की बात कही। महागठबंधन का सदस्य होने के बावजूद उनकी कड़ी आलोचना की गई।

इस दिन, उन्होंने पार्टी के उम्मीदवार के लिए प्रचार की आंधी उठाई। आजमल के सफर के दौरान दल को मजबूती और भी बढ़ गई। अब भाजपा एवं एआइयुडीएफ के बीच लड़ाई होगी। उन्होंने अपने भाषण में कहा, इस बार महागठबंधन की सरकार होगी। भाजपा के दिन खत्म हो गए हैं। आजमल के भाषण के दौरान, एक बड़ी भीड़ ने आवाज उठाई और कहा कि वे सुजाम को मंत्री होते देखना चाहते हैं। जवाब में, आजमल ने कहा कि अगर प्रत्याशी सुजाम उद्दीन लश्कर काटलीछोड़ा में एक लाख से अधिक वोटों के साथ निर्वाचन क्षेत्र जीतता है, तो वह महागठबंधन की ओर से सुजाम को मंत्री बनाने की कोशिश जारी रखेगा। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी में कई योग्य उम्मीदवार होने के बावजूद, उनमें से सभी को टिकट नहीं दिया जा सकता है।

व्यवसायी रफ़ीक आहमद एवं वकील आफ़ज़ल हुसैन, जो काटलीछोड़ा एवं हाइलाकांदी निर्वाचन क्षेत्रों में एआइयुडीएफ के टिकट प्रत्याशी थे, लेकिन उनकों भी टिकट से वंचित कर दिया गया। आजमल ने उनकी प्रशंसा कर कहा कि उन्होंने भले ही स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव में प्रतिद्वंदिता कर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। बल्कि दल के लिए मैदान पर काम कर रहे हैं। जनसभा में एपीसीसी के सचिव दिलावर हुसैन बड़भुइया ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस प्रार्थी संजीव राय की ओर से पूरे काटलीछड़ा विधानसभा क्षेत्र की कोने कोने में घुमें हैं। लेकिन संजीव राय के पक्ष में लोगों को ज्यादा प्रतिक्रिया नहीं मिली। एआइयुडीएफ प्रार्थी विधायक सुजाम उद्दीन लस्कर ने कहा कि उन्होंने जात-पात के विचार न करके विकास का काम किया है। पिछले 30 सालों में लोगों ने विकास का चेहरा नहीं देखा है। वह विधायक बनने के बाद उसने सड़क, बिजली और पीने का पानी उपलब्ध कराया है। आदिवासी इलाकों में कभी कोई विकास कार्य नहीं हुआ था। उनके कार्यकाल के दौरान वहां विकासमुलक काम हुआ है। अपने काम से निरिख में, उन्हें उम्मीद है कि इस बार वह भारी अंतर वोट से जीतेंगे।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल