फॉलो करें

बांशकांदी प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र में गलत ईलाज का शिकार हुई महिला साहेना बेगम

45 Views

प्रे.सं.लखीपुर १ फरवरी : बांशकांदी प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र के प्रभारी डॉक्टर हबीबुल इस्लाम और ड्यूटी नर्स ननीबाला देवी की गलत ईलाज के शिकार हुई महिला साहेना बेगम। बांशकांदी पुलिस की सहायता से पीड़ित महिला को बांशकांदी मेडिकल सेंटर से रिहाई करके अलीपुर अस्पताल भर्ती कराया गया, जिससे महिला की जान बंच गई। अलीपुर क्रिश्चियन अस्पताल से ठीक होने के बाद गर्भवती महिला के पति मुहम्मद अली ने २७ जनवरी को बांशकांदी पुलिस फाड़ी में डॉक्टर और नर्स के खिलाफ मामला दर्ज कराया। उनका घर चंद्रपुर द्वितीय खंड काकमारा गांव में है। उन्होंने बयान में बताया कि २१  जनवरी को रात १०:३० बजे जब उनकी गर्भवती पत्नी को प्रसव पीड़ा आरंभ हुई तो वह अपनी पत्नी को बांशकांदी अस्पताल ले जाने के लिए मारुति वैन चला रहे थे और कार में एक बेटे का जन्म हुआ। तुरंत अस्पताल पहुंचने पर अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात नर्स ननीबाला देवी प्रसव पीड़ित महिला को लेबर रूम में ले गई। कुछ देर बाद उस कमरे से इस प्रसव पीड़ा वाली महिला की जोर से रोने की आवाज आई। साथ आई महिला के परिजनों ने बाहर से पूछा कि क्या हुआ तो नर्स ननीबाला बाहर आई और बोली कि उसके प्राइवेट पार्ट में दर्द हो रहा है, इसलिए चिल्ला रही है, कुछ देर बाद सामान्य हो जाएगा, उस वक्त अस्पताल में कोई डॉक्टर नहीं था।नर्स ननीबाला ने फोन पर भी किसी डॉक्टर की सलाह नहीं ली, ऐसे में महिला काफी दर्द में रात गुजारती है। अगले दिन २१ जनवरी को प्रसूता ने बताया कि उसके प्राइवेट पार्ट को बिना सुन्न किए टांके लगा दिए गए और सफाई करते समय दवा दे दी गई, जिससे उसका प्राइवेट पार्ट और जांघें पूरी तरह से झुलस गई हैं। तो उसका दर्द असहनीय होता है। पीड़िता का  परिजन बेहतर इलाज के लिए रिहाई लेने के लिए प्रभारी चिकित्सक हबीबुल इस्लाम से मिले, लेकिन डॉक्टर ने रिहाई नहीं दी। उधर, गर्भवती महिला की हालत बिगड़ती जा रही है। २३  जनवरी तक जब उसे रिहा नहीं किया गया तो परिवार ने पुलिस से संपर्क किया। इस दिन दोपहर दो बजे बांशकांदी पुलिस की मदद से गर्भवती महिला को बांशकांदी अस्पताल से निकालकर अलीपुर अस्पताल ले जाया गया और भर्ती कराया गया. अलीपुर अस्पताल में इलाज के बाद एक सप्ताह तक अस्पताल में रहने के बाद महिला की हालत में थोड़ा सुधार हुआ। डॉक्टर और नर्स के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है जिसमें आरोप लगाया गया है कि बांशकांदी अस्पताल में गलत इलाज के कारण गर्भवती महिला को काफी परेशानी हुई और उसे काफी शारीरिक और आर्थिक नुकसान हुआ। आरोप है कि प्रभारी डॉक्टर ने उन्हें तरह-तरह की धमकियां दीं ,महिला के करीबी रिश्तेदार का आरोप है कि वह डरी हुई थी। जब प्रभारी डॉक्टर से राय पूछी गई तो उन्होंने कहा कि जिस रात महिला को अस्पताल लाया गया था उस दिन वह छुट्टी पर थे।,ड्यूटी पर मौजूद नर्स ने चाहकर कोई गलत इलाज नहीं की थी ।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल