फॉलो करें

बिहार में लोकसभा के पहले चरण की चार सीटों पर मतदान निर्विघ्न संपन्न, पूर्व मुख्यमंत्री सहित राजग की प्रतिष्ठा दाव पर।

18 Views
 अनिल मिश्र/पटना।  बिहार में लोकसभा चुनाव के पहले चरण की चार लोकसभा क्षेत्र का मतदान आज बिना किसी अप्रिय घटना के साथ संपन्न हो गए। बर्षो बाद इस तरह के शांतिपूर्ण मतदान इस बार देखने को आम लोगों के साथ-साथ पुलिस प्रशासन एवम मतदानकर्मी को मिला। इन सभी चरों  लोकसभा क्षेत्र बर्षो से उग्रवाद प्रभावित रहें है। इन चार लोकसभा क्षेत्र में  48.23प्रतिशत मदतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। चार संसदीय क्षेत्र में सबसे ज्यादा औरंगाबाद संसदीय क्षेत्र में 49.23वोट डाले गए। जबकि सबसे कम नवादा में 40.02वोट पड़े। वहीं गया में 48.54प्रतिशत और जमुई में 47.02मतदाताओं ने अपना मताधिकार का इस्तेमाल किए। चार लोकसभा क्षेत्र में 24विधान सभा क्षेत्र आते हैं। जिनम् 15 नक्सल प्रभावित क्षेत्र हैं वहीं 9विधान सभा संवेदनशील क्षेत्र माने जाते हैं। इस चुनाव में 55 हजार पैरा मिलिट्री फोर्स की तैनाती किए गए थे। जिसमें 40हजार हथियारबंद जवान के साथ साथ सैटेलाइट फोन और बम निरोधक दस्ता भी शामिल किये गए थे। नक्सली हिंसा और लैंड़ माइन्स को ध्यान में रखते हुए पुलिस के जवानों को नक्सल प्रभावित क्षेत्र में हेलीकॉप्टर के माध्यम से मतदान केन्द्र तक पहुंचाया गया था। साथ हीं वापस हेलीकॉप्टर से लाया जा रहा है ताकि किसी भी तरह के अप्रिय घटना घटित न हो। नवादा के बुथ नंबर 234से एक सिपाही की एसएलआर राइफल और बीस गोलियां चोरी हो जाने के कारण उसे तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। वहीं गया में बुथ नंबर 190पर लंच के कारण मतदान अधिकारियों ने लगभग आधे घंटे तक मतदान रोक दिया। जिसके कारण लाईन में खड़े मतदाताओं में काफी नाराज़गी देखने को मिला।लेकिन कुछ ही देर में जिला प्रशासन द्वारा हस्ताक्षेप के बाद मतदान सुचारू रूप से प्रारंभ हो गए। वहीं औरंगाबाद संसदीय क्षेत्र के कोंच प्रखंड के धनछुहा गांव में भाजपा के वर्तमान सांसद सुशील कुमार सिंह द्वारा पिछले पंद्रह साल से आश्वासन के बावजूद सड़क नहीं बनने के कारण वोट वहिष्कार किया गया। जबकि औरंगाबाद संसदीय क्षेत्र के ही नगर प्रखंड के नेहुटा गांव में मात्र तीन लोगों ने ही वोट ड़ाले जबकि वहां एक हजार के करीब मतदाता हैं। इसकी सूचना मिलते हीं औरंगाबाद के डीएम एवं उस गांव में पहुंचकर मतदाताओं से वोट डालने को कहा लेकिन मतदाता नहीं माने। अपनी बुनियादी सुविधाओं के लिए वोट वहिष्कार किए। जबकि जमुई में एक नव विवाहिता लड़की ने  मायके से विदाई होने से पहले और ससुराल जाने के पूर्व अपने पति को मतदान केंद्र पर साथ ले जाकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं गया जिले के मोहनपुर प्रखंड के विजय यादव ने नवादा के कादिरगंज में शादी कर दुल्हन को साथ लेकर वोट देने के करण फटाफट मतदान की अवधि समाप्त होने से पहले वोट देकर लोकतंत्र के इस महापर्व को मजबूत किया। आज सुबह सात बजे से पहले  ही इन सभी मतदान केंद्रो पर अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए लोगों की काफी भीड़ इस चिलचिलाती धूप और लू के साथ साथ भीष्ण गर्मी में लोगों के उत्साह देखने को मिले। इन सभी चारों जिलों में लगभग 40डिग्री तापमान आज दर्ज किए गए लेकिन मतदाताओं के जोश कम नहीं हुआ।आज गया लोकसभा सुरक्षित क्षेत्र से राष्ट्रीय जनता दल के प्रत्याशी और बिहार सरकार के पूर्व मंत्री कुमार सर्वजीत ने अपनी पत्नी के साथ टोटो में बैठकर बोधगया में अपना मत ईवीएम में बटन दबाकर किए वहीं गया से नगर विधायक एवं बिहार के सहकारिता मंत्री डाॅ प्रेम कुमार ने साईकिल से चलकर अपनी पत्नी के साथ मत देकर लोकतंत्र के इस महापर्व को मजबूत किया।मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी बिहार एच आर श्री निवास ने बताया कि 2019की तुलना में इस बार मात्र 5प्रतिशत वोट कम पड़े लेकिन किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं घटी ये बहुत बड़ी बात है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि पोलिंग के दौरान 21बैलेट यूनिट खराब हुए जिसे बाद  में बदल दिए गए। इन सभी चार लोकसभा क्षेत्र में तीन बार प्रधान मंत्री चुनावी सभा को संबोधित कर चुके हैं वहीं भाजपा के फायर ब्रांड नेता और उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ ने राजग समर्थित औरंगाबाद से भाजपा के सुशील कुमार सिंह, नवादा से भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं बिहार के जाने माने चिकित्सक डाॅ सीपी ठाकुर के लड़के विवेक ठाकुर वहीं बिहार के पूर्व मुख्य मंत्री एवम हम पार्टी के संरक्षक जीतन राम मांझी को गया से जबकि लोक जन शक्ति पार्टी के संस्थापक स्व.रामविलास पासवान के दामाद और चिराग पासवान के बहनोई जमुई से विजयी बनाने के लिए सभा को संबोधित किए हैं। वहीं राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता और बिहार के पूर्व उप मुख्य मंत्री तेजस्वी यादव के साथ-साथ वीआईपी पार्टी के मुकेश सहनी लगभग सभी विधान सभा क्षेत्र में अपने प्रत्याशी के लिए वोट मांगकर पिछले दस साल से सता में काबिज नरेंद्र मोदी सरकार को उखाड़ फेकने का आह्वान किया है। लेकिन चुनाव प्रचार के अंतिम दिन जमुई के एक तेजस्वी की सभा में  समर्थक द्वारा चिराग पासवान के मां के प्रति आपत्तिजनक टिप्पणी करने और गाली देने का वीडियो वायरल होने के बाद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन द्वारा भूनाने की कोशिश किए गए हैं। हलांकि चुनाव आयोग तक इसकी शिकायत किया गया है। अब 4जून को ही मतगणना के दिन पता चलेगा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन जीतती है या तेजस्वी का तेज बिहार में कारगर सिद्ध होगी।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल