फॉलो करें

मुख्य यजमान बनाम पगङीधारी ( हास्य व्यंग्य)

48 Views

धार्मिक कार्यक्रम में एक रोडमैप तैयार करके आयोजन समिति धन संग्रह के लिए अनेक यजमान तथा एक मुख्य यजमान आर्थिक दृष्टि से  बनाती है जो अधिक धन देगा वो मुख्य यजमान फिर विशेष यजमान कम देने वाले साधारण यजमान जो फोरी तोर एवं परंपरागत तो ठीक ही है लेकिन धन के आधार पर मैरिट बनाकर कोई ईश्वरीय काम यज्ञ हवन पूजा पाठ कराना उचित है?? लेकिन हो रहा है। सर्वाधिकार मुख्य यजमान के पास होंगे तो उनका आसन्न भी अलग होगा।  बाकी लोग दर्शक बनकर रह जाते हैं इसलिए ऐसे आयोजनों में लोग कम आते हैं। मुख्य यजमान के गुणों का बखान ऐसे किया जाता है कि विज्ञापन करने वाले कलाकार हो।  आयोजक एवं कथाकार इसलिए खुश है कि येनकेन काम तो बन गया तो मुख्य यजमान भी निश्चित रूप से खुश होना ही है क्योंकि चंदा देने के बदले वो सब मिल गया जो आज तक संभव ही नहीं था। सिर पर पगङी अथवा साफा निश्चय ही संपन्नता की निशानी है। पूरा परिवार वाहवाही बटोरने में मशगूल है।  चिकोरी मल लखपति था ।  ब्याज का काम करता था लेकिन उसे कोई नहीं पुछता था । मूंह पर झुर्रियाँ पङ गयी गर्दन टेढ़ी हो गई सिर भी उम्र के हिसाब से सिकुड़ गया लेकिन मुख्य यजमान बनाकर तैयार किया तो पगङी नाप की नहीं मिली तो साफा बनाकर पहनाया मंच पर लाया गया तो लालाजी दानवीर ना क्या क्या कहकर आलीशान कुर्सी पर बिठाया गया। पहले तो चिकोरी मल खुशी से पागल हो गया लेकिन जब हद पार कर गयी तो साफा रखकर बोला कि मैं चला मेरी जगह इस साफे के गुणगान करना।  आयोजक बोला ताउजी आपको तो रहना ही पङेगा सात दिन पूजा आरती हवन करवाना है तो चिकोरी बोला इतना समय नहीं है मेरे पास। नहीं बनाना है तो रूपये लौटा दो।  समय  एवं स्थिति की नजाकत समझकर कथाकार बोला कोई बात नहीं ताउजी आपका प्रतिनिधि अब यह साफा ही रहेगा।

मदन सुमित्रा सिंघल
पत्रकार एवं साहित्यकार
शिलचर असम
मो 9435073653

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल