संत रविदासजी की 644 वीं जयंती हाइलाकान्दी में मनाई गई

0
747
संत रविदासजी की 644 वीं जयंती हाइलाकान्दी में मनाई गई

शंकरी चौधुरी, हाइलाकान्दी, 28 फरवरी: संत शिरोमणि गुरु रविदासजी की 644 वीं जयंती विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से हाइलाकान्दी जिले में मनाई गई। रबिदास उन्नयन परिषद के जिलाध्यक्ष श्यामसुंदर रबिदास ने शनिवार सुबह स्थानीय रवीन्द्र भवन में ध्वज उत्तलोन कर समारोह का उद्घाटन किया। इसके बाद रबिदासजी के चित्र एवं झांकीी के सहयोग से एक भव्य शोभायात्रा निकाली गई एवं शहर के विभिन्न सड़कों की परिक्रमा की। शोभायात्रा में जिले के शहरी व ग्रामीण इलाकों की लगभग चालीस बगाान से कीर्तन मंडलियों ने भक्ति गीत और कीर्तन शामिल थे। कई हजारों लोग जुलूस में शामिल हुए। जिले के गेरुआ दल, संघ परिवार, विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारियों ने भी इसमें भाग लिया।

संगठन के अध्यक्ष श्यामसुंदर रबिदास के अध्यक्षता में आयोजित धर्म महासभा में प्रख्यात समाजसेवी तथा केशब स्मारक संस्कृति सुरभि के संस्थापक सचिव दिलीप कुमार ने प्रदीप जलाकर शुभारंभ किया।
मुख्य अतिथि के भाषण में, दिलीप कुमार ने संत शिरोमणि रविदासजी के महान कर्मकांड और उनकी साधना के बारे में प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वह भारतीय तथा हिंदू संस्कृति, परंपराओं की रक्षा करने के लिए सांगठनिक काम किया। उन्होंने रबीदासजी की विचारधारा पर चलकर समाज को आगे ले जाने की सलाह दी। अध्यक्ष श्यामसुंदर रबिदास ने एकजुट होकर समाज गठन करने का अपील की। हाइलाकान्दी जिला मुख्यालय में रबिदास समाज के विकास के लिए एक सुंदर भवन व संत शिरोमणि रबिदासजी की मंदिर स्थापना की मांग की। इसके अलावा जिला भाजपा अध्यक्ष स्वपन भट्टाचार्य, एपीसीसी सचिव संजीव राय, विश्व हिंदू परिषद के संगठन मंत्री रतीश दास, पूर्व अध्यक्ष मनोज मोहन देव, पत्रकार शतानंद भट्टाचार्य, रबिदास उन्नयन संगठन के पूर्व अध्यक्ष धर्मदेव रबिदास, पूर्व सचिव देव नारायण रबीदास, विद्यार्थी परिषद के हाइलाकान्दी शाखा सचिव कनकलाल देव, चौधरी चरण गौड़, बाबुल कुमार, दिव्येंदु चंद प्रमुख ने संबोधित किया। इसके अलावा, इस दिन एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का मंचन किया गया है। पूरे कार्यक्रम का संचालन पत्रकार शंकरी चौधुरी ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here