फॉलो करें

सरस्वती शिशु निकेतन माध्यमिक विद्यालय डलू में सामूहिक गीता पाठ कार्यक्रम संपन्न

24 Views

प्रे.सं.बड़खोला २३ दिसंबर : पवित्र धर्मग्रंथ गीता को हम सनातनी संविधान भी कह सकते हैं, पिछले कई दशकों में हमें विद्यालय में सनातन धर्म ग्रंथों के विषय में सामान्य जानकारी भी नहीं मिलती थी परंतु आज विभिन्न विद्यालयों में धर्म ग्रंथों के विषय पर विद्यार्थियों को जानकारी दी जा रही है, सनातन रिवाज के अनुसार प्रभात प्रार्थना किया जा रहा है। इसमें आजकल हमारे देश के कई राज्यों में गीता और रामायण पर शिक्षादान करने पर जोर दिया जा रहा है। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए आज २३ दिसंबर शनिवार को बड़खोला विधानसभा क्षेत्र का डलु स्थित सरस्वती शिशु निकेतन माध्यमिक विद्यालय में संस्कृत भारती दक्षिण असम प्रांत सहयोग से सरस्वती शिशु निकेतन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में सहस्रों कंठों से गीता पाठ का आयोजन किया गया। बराक घाटी में प्रथम बार सहस्रों कंठों से गीता पाठ सुबह ग्यारह बजे कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दक्षिण असम प्रांतीय प्रचारक गौरांग राय, के साथ विशेष अतिथि विद्याभारती के संगठन मंत्री महेश भागवत, संस्कृत भारती के संगठन मंत्री गौतम चक्रवर्ती विशिष्ट समाज सेवी तथा वास्तुकार आजिजुर रहमान मजुमदार, विद्यालय भवन निर्माण कार्य वास्तुकार आंनद राय, रंजन रश्मि गोस्वामी, कपील चौधुरी, सहित विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष बनमाली सिंह ने प्रदीप प्रज्वलन के माध्यम से किया, तत्पश्चात विद्यालय के आचार्यों ने अतिथियों को गीता और औषधीय पौधे के बिरवाइ भेट किया। विद्यार्थियों एवं अध्यापकों को मिला कर कुल एक हजार से अधिक पाठकों ने सम्मिलित रूप से गीता पाठ किया । आज के इस गीता पाठ कार्यक्रम का संचालन, संस्कृत भारती के दक्षिण असम प्रांत सचिव गौतम चक्रवर्ती, श्याम दास सिन्हा ने किया,जो दोपहर एक बजे समापन हुआ। आंनद राय ने गीता का नौवा अध्याय का कंठस्थ पाठ किया। मुख्य अतिथि गौरांग राय ने गीता का महत्व और वर्तमान समाज में उसकी उपयोगिता पर महत्वपूर्ण जानकारी साझा किया, विशेष अतिथि आजिजुर रहमान ने अपने संक्षिप्त संबोधन में सनातन को महान बताते हुए कहा कि शिक्षा व्यवस्था में गीता का ज्ञान सर्वथा जरुरी है, आनंद राय ने अपने बक्तब्य कहा कि आज हर अभिभावक का दायित्व है कि वे अपने संतानों को धर्म ग्रंथों से परिचित कराएं और धर्म ग्रंथों की पाठ का अभ्यास कराएं, तभी एक शिशु पुर्णतया शिक्षित हो पाएगा। इसी कार्यक्रम के अंतर्गत डलू चाय बगान निवासी गीतकार बिजय कुमार तांती को झुमर सम्राट उपाधि से विभूषित कर सम्मानित किया गया, उनको मानपत्र और अंगवस्त्र देकर, विद्यालय के प्रधानाचार्य बिवेकानन्द देबपुरकायस्थ ने सम्मानित किया। समारोह के अंत में विद्यालय प्रबंधन समिति के उपाध्यक्ष बनमाली सिंह ने सभी को धन्यवाद ज्ञापन किया। आज इस कार्यक्रम में क्षेत्र के लोगों, अभिभावकों ने उत्साह पूर्वक भाग लिया, बड़खोला क्षेत्र में प्रथम बार आज के इस भव्य गीता पाठ कार्यक्रम का आयोजन से इलाके के लोगों में काफी उत्साह नजर आया, लोगों ने विद्यालय के प्रधानाचार्य बिवेकानन्द देबपुरकायस्थ का इस अथक प्रयास का सराहना करते नहीं थके, उनके अनुसार बिवेकानन्द देबपुरकायस्थ इस क्षेत्र आये दिन विभिन्न धार्मिक आयोजन करते रहते हैं। कुल मिलाकर आज का गीता पाठ कार्यक्रम एक बड़ा समारोह का रुप में नजर आ रहा था।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल