फॉलो करें

७० साल से बाबुल अभी भी मिट्टी के साम्रगी बना रहे हैं : दत्तपुर

210 Views

सुब्रत दास,बदरपुर:* एक समय था जब लोग अपने दैनिक कार्यों में मिट्टी के साम्रगी का उपयोग करते थे, लेकिन अब प्लास्टिक सामग्री बढ़ने के कारण मिट्टी के बर्तन उद्योग मर रहे हैं। कुम्हार उम्मीद कर रहे हैं कि अगर सरकार थोड़ा ध्यान देगी तो उद्योग फिर से जीवित हो जाएगा। मिट्टी सामग्री आने के बाद लोहे सहित विभिन्न धातु का उपयोग किया जा रहा है और वर्तमान में प्लास्टिक ने इन चीजों का स्थान ले लिया है। तब भी मिट्टी के साम्रगी का उपयोग नहीं खोया। करीमगंज जिले में कई परिवारों की आजीविका का मुख्य साधन अभी भी मिट्टी से सामग्री बनाना है। यह ज्ञात है कि पहले उन्होंने कई प्रकार की मिट्टी की सामग्री बनाते थी,लेकिन अब वे केवल मुट्ठी भर सामग्री बनाते हैं।करीमगंज जिले के दत्तपुर कुमारपारा गाँव के निवासी बाबुल रुद्र पाल की उम्र लगभग ७० वर्ष है।

उन्होंने कहा कि वह अभी भी इन सभी सामग्रियों को अपने हाथों से बनाते हैं। यह काम करके लड़के और लड़कियों को बड़ा किया। हालाँकि नई पीढ़ी अब इस काम में नहीं आना चाहती,इस में काम ज्यादा और मुनाफा कम होता है। उन्होंने कहा कि वह अब उतनी सामग्री का उत्पादन नहीं कर सकते,जितना शारीरिक रूप से फिट होने पर कर सकते थे। फिर भी पेट के आग्रह पर वह हर दिन शारीरिक रूप से उतनी ही सामग्री बनाता है जितना वह शारीरिक रूप से बना सकता है। हालांकि त्योहारी सीजन के दौरान मिट्टी के साम्रगी की मांग बढ़ जाती है। इसलिए वे दुर्गा पूजा के समय से लेकर अग्रहायण के महीने तक इंतजार करते हैं। बुद्धिजीबियो ने कहा,कि अगर सरकार ने उनके लिए विशेष पहल की होती,विशेष रूप से सरकारी कार्यों में थर्मोकोल के साथ कागज और प्लास्टिक की उपयोग के बजाय मिट्टी के साम्रगी उद्योग में शामिल होते तो,लोगों के जीवन में समृद्धि लौट आती।

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

मारवाड़ी सम्मेलन की तिनसुकिया तथा तिनसुकिया महिला शाखा के आतिथ्य में अखिल भारतवर्षीय मारवाड़ी सम्मेलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार लोहिया और महामंत्री कैलाश पति तोदी सहित प्रांतीय अधिकारियों का तिनसुकिया में भव्य स्वागत

Read More »

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल